प्रणब मुखर्जी के भाषण से पहले कांग्रेस ने गिनाई RSS की 10 कमियां, शेयर किया वीडियो

कांग्रेस ने वीडियो में बताया है कि नाथूराम गोडसे और आरएसएस के बीच सीधे संबंध थे, गांधी जी की हत्या के बाद संघ ने मिठाई भी बांटी थी।

By: Kapil Tiwari

Published: 07 Jun 2018, 08:26 PM IST

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरएसएस के नागपुर मुख्यालय में पहुंच हुए हैं। अब से बस कुछ ही देर में उनका भाषण शुरू होने वाला है। जहां एक तरफ प्रणब दा के संघ मुख्यालय में आने से भाजपा और संघ काफी उत्साहित है तो वहीं कांग्रेस पार्टी में उथल-पुथल का माहौल है और ये प्रणब दा के भाषण से कुछ समय पहले तक दिखा भी। दरअसल, कांग्रेस पार्टी ने ट्वीटर पर एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें पार्टी ने आरएसएस और भाजपा पर निशाना साधा है।

प्रणब दा के भाषण से पहले कांग्रेस का संघ पर हमला
इसके अलावा इस वीडियो के जरिए कांग्रेस ने आरएसएस की कमियां गिनाई हैं। कांग्रेस ने ट्वीट किया कि, सभी भारतीयों के लिए यह जानना जरूरी है कि आरएसएस ने ऐतिहासिक रूप से क्या खड़ा किया। भारत के लोगों को कभी नहीं भूलना चाहिए कि RSS की विचारधारा भारत के विचारधारा से उलट है। आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी प्रणब मुखर्जी के संघ मुख्यालय जाने वाले फैसले से नाराज है और काफी दिन पहले से ही कांग्रेस के नेता प्रणब मुखर्जी के दौरे की आलोचना कर रहे हैं। इस बीच प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने भी इस दौरे की आलोचना की थी।

कांग्रेस पार्टी ने अपने वीडियो के जरिए आरएसएस की जिन 10 कमियों को गिनाया है वो ये हैं-

- कांग्रेस के वीडियो में कहा गया है कि आरएसएस हमेशा से अंग्रेजों के अधीन रहा है।

- आरएसएस ने कभी अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा नहीं रहा।

- आरएसएस के संस्थापक केबी हेडगेवार को खिलाफत आंदोलन में उनकी भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया था और यह स्वतंत्रता आंदोलन में उनकी अंतिम भागीदारी थी।

- आरएसएस ने गांधी जी के नमक आंदोलन से भी किनारा किया था.

- RSS ने कभी भी तिरंगे का सम्‍मान नहीं किया बल्कि उसके विरोध में अपना भगवा ध्वज लाया।

- संघ के द्वितीय सरसंघचालक माधव सदाशिव गोलवलकर ने भी उन आरएसएस के सदस्यों की आलोचना की थी जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की थी।

- आरएसएस और नाथुरम गोडसे के बीच सीधे संबंध थे। गोडसे ने ही महात्मा गांधी की हत्या की थी।

- गांधी जी की हत्या के बाद, आरएसएस के सदस्यों ने मिठाई वितरित की थी।

- भारतीय संविधान के लिए आरएसएस ने कभी भी ज्यादा सम्मान नहीं दिखाया, लेकिन वे मनुस्मृति का पक्ष लेते दिखाए देते हैं।

Congress
Show More
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned