कांग्रेस ने 'PM केयर्स फंड' को बताया भ्रष्टाचार और झूठ का ब्लैकहोल

कांग्रेस ने पीएम केयर्स फंड की वैधता पर सवाल उठाते हुए आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया और लिखा 'पीएम केयर्स फंड झूठ, सार्वजनिक धन और भ्रष्टाचार का ब्लैकहोल है।'

By: Anil Kumar

Updated: 08 Aug 2021, 05:12 PM IST

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मोदी सरकार पर एक बार फिर से हमला बोला है। कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रहे लोगों की मदद के लिए पिछले साल मार्च में बनाए गए पीएम केयर्स फंड (PM CARES Fund) की आलोचना करती रही कांग्रेस ने फिर से सवाल उठाए हैं और गंभीर आरोप भी लगाए हैं।

कांग्रेस ने पीएम केयर्स फंड की आलोचना करते हुए रविवार को कहा कि यह झूठ और भ्रष्टाचार का ब्लैकहोल है। कांग्रेस ने पीएम केयर्स की वैधता पर सवाल उठाते हुए आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया और लिखा 'पीएम केयर्स फंड झूठ, सार्वजनिक धन और भ्रष्टाचार का ब्लैकहोल है।'

यह भी पढ़ें :- पश्चिम बंगाल में PM CARES फंड से बनेंगे 250 बेड वाले दो अस्थायी कोविड अस्पताल, बजट आवंटित

कांग्रेस ने अपने ट्वीट में सुप्रीम कोर्ट में दायर एक याचिका की मांग को भी दोहराया है। उसमें लिखा है कि पीएम केयर्स फंड के मामले में पारदर्शिता और जवाबदेही की जरूरत है।

मार्च 2020 में बना था पीएम केयर्स फंड

आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण के प्रकोप से जूझ रहे देश के नागरिकों की आर्थिक मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम केयर्स फंड को बनाया था। प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन स्थिति में राहत कोष यानी पीएम केयर्स फंड एक सार्वजनिक ट्रस्ट है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में 27 मार्च, 2020 को रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1908 के तहत इसे पंजीकृत किया गया है।

यह भी पढ़ें :- PM Cares Fund के नाम से बनाई फर्जी वेबसाइट, फिर यूं ऐंठे लोगों से लाखों रुपए, हुए कईं खुलासे

इस ट्रस्ट को लेकर कांग्रेस समेत तमाम विपक्षी दल आलोचना करती रही है और भ्रष्टाचार के आरोप लगाती रही है। लेकिन केंद्र सरकार बार-बार यही बात दोहरा रही है कि इस ट्रस्ट को नागरिकों के हित में बनाया गया है। बीते कुछ समय में पीएम केयर्स फंड के जरिए ही करोड़ों रुपये के वेंटिलेटर्स व अन्य उपकरण खरीदे गए थे। इस ट्रस्ट में कोरोना संकट के दौरान लोगों ने करोड़ों रुपये के दान दिए हैं।

चूंकि, यह ट्रस्ट सूचना के अधिकार (RTI) अधिनियम और सीएजी ऑडिट के दायरे में नहीं आती है। इसलिए विपक्ष फंड में पारदर्शिता की कमी को लेकर बार-बार आलोचना करती रही है और भ्रष्टाचार के आरोप भी लगा रही है।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned