पेन, स्याही और विधायकों की गलती से सुभाष चंद्रा पहुंचे राज्यसभा

उन्होंने कहा कि निर्दलीय प्रत्याशी आरके आनंद को आरोप लगाने के बजाय चुनाव आयोग में याचिका दायर करनी चाहिए, कांग्रेस भी ऐसा ही करने जा रही है।

By: विकास गुप्ता

Published: 13 Jun 2016, 09:42 PM IST

चंडीगढ़। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौ.भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने राज्यसभा चुनाव में वोटिंग को लेकर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि इस षडय़ंत्र में भाजपा सरकार और चुनाव में लगी मशीनरी शामिल हो सकती है इसके लिए पेन और स्याही की फोरेसिंक जांच करवाई जाए। फैक्ट फाइडिंग कमेटी इसकी जांच करे। उन्होंने कहा कि निर्दलीय प्रत्याशी आरके आनंद को आरोप लगाने के बजाय चुनाव आयोग में याचिका दायर करनी चाहिए, कांग्रेस भी ऐसा ही करने जा रही है।

कांग्रेस के 12 वोट हो गए थे खारिज
हरियाणा में राज्‍य सभा चुनावों में कांग्रेस समर्थित निर्दलीय उम्‍मीदवार आरके आनंद को हार झेलनी पड़ी। इस हार के पीछे स्‍याही और पेन को वजह बताया जा रहा है। कांग्रेस इसे भाजपा की साजिश बता रही है और रिटर्निंग अधिकारी पर भी सवाल उठा रही है। वहीं चुनाव आयोग चुनाव को सही बता रहा है। राज्य सभा चुनाव में कांग्रेस के 12 उम्‍मीदवारों के वोट खारिज हो गए। वहीं पूर्व मुख्‍यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने अपना बैलेट पेपर खाली छोड़ दिया।

खारिज हो गए बैलेट पेपर
इधर पूर्व संसदीय कार्य मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कथित तौर पर अपना बैलेट पेपर सीएलपी प्रेसीडेंट किरण चौधरी को दिखाया। इसके बाद उनका वोट खारिज हो गया। चुनाव आयोग के नियमानुसार विधायकों को विधान सभा सचिव की ओर दिए गए स्‍केच पेन से वोट डालना होता है। बैलेट पेपर को इंडिगो स्‍याही युक्‍त एक मिलीमीटर मोटाई वाली निब के पेन से ही मार्क किया जाना चाहिए। किसी अन्‍य स्‍याही से मार्क किए गए बैलेट पेपर को खारिज कर दिया जाता है। भाजपा, इंडियन नेशनल लोकदल और आरके आनंद का हुड्डा कैंप पर आरोप है कि उन्‍होंने जानबूझकर अपने बैलेट पेपर खराब किए।

हुड्डा कैंप पर साजिश का आरोप
हुड्डा कैंप साजिश का आरोप लगा रहा लेकिन उनका दावा है कि जो पेन उन्‍हें दिया गया उसी का इस्‍तेमाल उन्‍होंने किया। कांग्रेस विधायकों के वोट खारिज होने के बाद कई सवाल उठ रहे हैं। जिन कांग्रेस विधायकों के वोट खारिज हुए वे पहले भी राज्‍य सभा चुनावों में हिस्‍सा ले चुके हैं। उन्‍हें नियमों की जानकारी भी थी। जानिए कहां कौन जीता, भाजपा-कांग्रेस को कितना फायदा कितना नुकसान दूसरी ओर, इनेलो ने कांग्रेस पर अपना हमला तेज कर दिया है।

सीरीयल नंबर जारी किए
इनेलो के वरिष्‍ठ नेता अभय चौटाला ने रविवार को कांग्रेस विधायकों के वोटों के सीरियल नंबर जारी किए। इस लिस्‍ट में जिन कांग्रेसी विधायकों के वोट खारिज हुए उनके भी सीरियल नंबर हैं। कांग्रेस के 17 विधायकों ने वोट डाले थे। इनमें से पूर्व विधानसभा स्‍पीकर कुलदीप शर्मा, विधायक गीता भुक्‍कल और किरण चौधरी के वोट सही पाए गए। बाकी के 14 वोट खारिज हो गए। सीरियल नंबर 94 से 106 तक के कांग्रेसी विधायकों के वोट खारिज हुए। इन सभी विधायकों ने बताया कि उनके वोट सही थे।

साजिश में अभय व रामपाल का हाथ- जेपी
निर्दलीय विधायक जयप्रकाश ने कहा कि अभय चौटाला ने 4.30 बजे मुझसे कहा था कि भाजपा के 9 वोट रद्द होंगे। हमने पेन बदल दिया है। इस योजना के पीछे अभय व रामपाल माजरा सहित एजेंटों का हाथ है। भले ही गुप्त मतदान हो, लेकिन मतदान से पहले की तमाम औपचारिकताओं की जिम्मेदारी उम्मीदवार व एजेंटों की होती है। जल्द ही मीडिया के सामने पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा। कांग्रेस और इनेलो ने पहली बार हाथ मिलाया।

कुछ दिन में सच सामने आ जाएगा-चंद्रा
राज्यसभा के नवनिर्वाचित सदस्य डॉ. सुभाष चंद्रा ने कहा कि क्रॉस वोटिंग किसने की। इनेलो-कांग्रेस के किस विधायक ने किसका साथ दिया। यह कुछ ही दिन में सामने आ जाएगा। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के सहयोग से पार्टी के सभी विधायकों का वोट मिला। विरोधी दलों के विधायकों तक ने दिल से वोट दिया। मैंने 76 विधायकों से वोट की अपील की थी। यहां तक कि सीएम मनोहर लाल से बात करते हुए कहा था कि वह मुख्यमंत्री से नहीं, भाजपा विधायक से वोट मांग रहे हैं।
Congress
Show More
विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned