फारूक अब्‍दुल्‍ला बोले, नेशनल कांफ्रेंस सत्ता में आई तो छठी सिंहपोरा नरसंहार की कराएंगे जांच

नेशनल कांफ्रेंस ने छठी सिंहपोरा नरसंहार की जांच कराने की कोशिश की थी लेकिन तत्‍कालीन केंद्र सरकार ने इससे इनकार कर दिया था।

By: Dhirendra

Updated: 07 Jan 2019, 03:34 PM IST

नई दिल्‍ली। नेशनल कांफ्रेंस के प्रमुख और जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ फारूक अब्दुल्ला ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने सिख समुदाय को आश्वस्‍त करते हुए कहा है कि अगर नेशनल कांफ्रेंस विधानसभा चुनाव में सत्ता में आई तो छठी सिंहपोरा नरसंहार की जांच कराएगी। अब्‍दुल्‍ला ने कहा है कि जिन लोगों ने निर्दोष लोगों को मारा है उनको सजा दिलाने का काम किया जाएगा।

केंद्र सरकार ने जांच से किया था इनकार
फारूक अब्‍दुल्‍ला ने कहा कि साल 2000 में अमरीका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के भारत दौरे के दौरान कश्मीर के छठी सिंह पोरा में 36 सिखों को मार डाला गया। उसके बाद कुछ लोगों को दुकानों से उठाकर मारा गया और कहा गया कि सिखों को इन लोगों ने मारा था। इस घटना से मुझे बहुस अफसोस हुआ था। जब मैं और प्रकाश सिंह बादल घटनास्थल पर पहुंचे तो लोगों का दर्द देखकर हम पसीज गए। मैने छठी सिंहपोरा नरसंहार की जांच मद्रास के एक जज से करवानी चाहिए लेकिन उस समय की दिल्ली सरकार ने जांच नहीं होने दी।

सिख विधायक को बनाऊंगा मंत्री
उन्‍होंने सिख समुदाय को विश्‍वास दिलाया है कि छठी सिंह पोरा नरसंहार की जांच करवाऊंगा। उन्होंने सिख समुदाय से कहा कि वे एकजुट होकर अपना प्रतिनिधि चुनकर विधानसभा में भेजें। अगर विधानसभा चुनाव में नेशनल कांफ्रेंस की सरकार बनती है तो सिख प्रतिनिधि को कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा। श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के प्रकाशोत्सव पर गुरुद्वारा यादगार श्री गुरु नानक देव जी चांद नगर में आयोजित मुख्य समारोह में भाग लेने पहुंचे फारूक ने गुरुघर का आशीर्वाद लेने के बाद कहा कि नेशनल कांफ्रेंस ने हरबंस सिंह को टिकट दी थी लेकिन वह हार गए। उन्‍हें एमएलसी बनाकर हमारी पार्टी ने मंत्री बनाया। अगले चुनाव में फिर से हरबंस सिंह को चुनाव मैदान में उतारा।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned