महाराष्ट्र में 'फाइनल फ्राइडे', सियासी उठापटक थमने की संभावना

  • पांच दिन बाद महाराष्ट्र वापस लौट रही सियासी हलचल।
  • सूत्रों की मानें तो सरकार गठन की योजना हो गई पूरी।
  • शुक्रवार दोपहर मातोश्री में शिवसेना विधायकों की बैठक।

Amit Kumar Bajpai

November, 2111:48 PM

मुंबई। पिछले एक माह से महाराष्ट्र के सियासी संकट में संभवता फ्राइडे फाइनल बन सकता है। राजधानी दिल्ली में 5 दिनों की राजनीतिक उठापटक के बाद अब शुक्रवार को राजनीतिक घटनाक्रम का केंद्र महाराष्ट्र बनने जा रहा है। शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस महाराष्ट्र में सरकार गठन की योजनाओं को अंतिम रूप दे चुकी हैं।

बिग ब्रेकिंगः महाराष्ट्र सीएम के लिए शिवसेना ने जो नाम दिया... उसे एनसीपी ने कर दिया मना... वजह है कुछ

इन पार्टियों के सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक अधिकांश कांग्रेस और राकांपा नेता गुरुवार देर रात या शुक्रवार की सुबह मुंबई लौट आएंगे। राज्य में संभावित सरकार को अंतिम रूप देने से पहले कई महत्वपूर्ण बैठकें की जाएंगी।

मातोश्री में मिलेंगे शिवसेना विधायक

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार दोपहर बांद्रा स्थित अपने आवास 'मातोश्री' में सभी 56 पार्टी विधायकों की बैठक बुलाई है। सभी को अपने पहचान पत्र, अपने संबंधित निर्वाचन अधिकारियों द्वारा जारी किए गए चुनाव प्रमाणपत्र और अन्य प्रासंगिक दस्तावेजों के साथ पूरी तरह से तैयार होकर आने को कहा गया है। इन सभी की कुछ दिनों में आवश्यकता पड़ सकती है।

बड़ी खबरः महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के इस पेच ने फंसाया मामला... कांग्रेस-एनसीपी जुड़ने के बाद भी नहीं कर पा रहे फैसला...

पार्टी के एक सूत्र ने कहा कि ठाकरे संभवता उन्हें मुंबई और नई दिल्ली में पिछले दो सप्ताह से चले आ रहे घटनाक्रम और तीनों दलों के प्रस्तावित गठबंधन के बारे में हुए अपडेट दे सकते हैं।

कौन होगा मुख्यमंत्री

शिवसेना के एक नेता ने खुलासा किया कि पार्टी के नेताओं और कैडरों के साथ शुक्रवार की बैठक महत्वपूर्ण होगी कि मुख्यमंत्री कौन होगा। पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि उद्धव ठाकरे को खुद यह पद ग्रहण कर राजनीतिक इतिहास बनाना चाहिए।

कांग्रेस की बैठक

दोपहर लगभग 1.30 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक औपचारिक रूप से अपने नेता का चुनाव करने के लिए होगी, जहां विधायकों को सरकार के गठन की रणनीति और सत्ता के बंटवारे के फार्मूले के अन्य पहलुओं के बारे में विस्तार से बताया जाएगा।

महागठबंधन की बैठक

इसके बाद कांग्रेस-राकांपा के नेतृत्व में बने महागठबंधन में शामिल अन्य छोटे दलों के साथ दोनों पार्टियों के नेताओं की बैठक होगी जिसमें इन छोटे दलों से सरकार गठन पर समर्थन मांगा जाएगा।

दावा पेश करने की योजना

माना जा रहा है कि इसके बाद शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस के शीर्ष नेताओं की बैठक होगी जिसमें तय किया जाएगा कि राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने का दावा कब पेश किया जाए।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned