केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार समेत 150 के खिलाफ केस दर्ज, सरकारी अफसर को धमकाने का आरोप

  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के खिलाफ एफआईआर दर्ज।
  • केंद्रीय मंत्री पर सरकारी अफसर को डयूटी पर धमकाने का आरोप।
  • पुलिस ने चौबे समेत 150 लोगों के खिलाफ केस किया केस दर्ज।

By: Mohit sharma

Updated: 01 Apr 2019, 12:46 PM IST

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे और भाजपा नेता राणा प्रताप सिंह सहित 150 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। केंद्रीय मंत्री पर सरकारी अफसर को ड्यूटी पर धमकाने का आरोप है। पुलिस ने उनके खिलाफ कई धाराओं में केस दर्ज किया है। आपको बता दें कि एक दिन पहले यानी रविवार को सोशल मीडिया पर केंद्रीय मंत्री का एक वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में अश्विनी चौबे एसडीएम के साथ बदसलूकी करते नजर आ रहे हैं। यह घटना बिहार के बक्सर की थी।

कश्मीर: पुंछ में पकिस्तान ने किया सीजफायर का उल्लंघन, एलओसी पर गोलीबारी जारी

 

 

दिल्ली से 2 लाख इनामी जैश आतंकी फैयाज अहमद गिरफ्तार, बड़ा खुलासा संभव!

आचार संहिता के उल्लंघन की बात पर भड़क गए थे केंद्रीय मंत्री

दरअसल, यहां केंद्रीय मंत्री आचार संहिता के उल्लंघन की बात पर भड़क गए थे जिसके बाद केंद्रीय मंत्री ने वहां एसडीएम के साथ न केवल अभद्रता की, बल्कि उनको धमकाया भी था। आपको बता दें कि अश्विनी चौबे बक्सर में एक चुनावी सम्मेलन में जा रहे थे। बताया गया कि चौबे के काफिले में गाड़ियों की संख्या आचार संहिता का उल्लंघन कर रही थी। वहीं, जब प्रशासन ने अनुमति से अधिक गाड़ियों का इस्तेमाल पर आपत्ति जताई तो केंद्रीय मंत्री भड़क गए। इस पर उन्होंने बक्सर के एसडीएम केके उपाध्याय के साथ बदसलूकी की। प्रशासन पर भड़के मंत्री ने एसडीएम को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत हो तो ले चलो जेल। किसके आदेश से मेरी गाड़ी रोके हो?

राजशाही परिवार के ताने पर प्रियंका का कटाक्ष, दादी इंदिरा ने ही हटाईं थी राज घरानों की सुविधाएं

अश्विनी चौबे को किसी की रोकटोक पसंद नहीं

ऐसा माना जाता है कि अश्विनी चौबे को किसी की रोकटोक पसंद नहीं है। शनिवार को उम्मीदवार घोषित होने के बाद पहली बार बक्सर पहुुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे कार्यक्रम में भाग लेने जा रहे थे। लेकिन अनुमति से अधिक गाड़ियों का इस्तेमाल करने पर प्रशासन की आपत्ति के बाद वह भड़क गए। वीडियो में दिखाया जा रहा है कि चौबे एसडीएम को जेल में डालने तक की चुनौती दे डाली। हालांकि एसडीएम ने चुनाव आयोग का हवाला देते हुए मंत्री को शांत करने का प्रयास भी किया, लेकिन उन्होंने एक न सुनी।

bjp leader
Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned