पहले ईस्ट इंडिया कंपनी आई, अब वेस्ट इंडिया कंपनी आ गई - Rahul Gandhi

  • किसानों ने बातचीत में राहुल से कहा, मोदी सरकार अंधा कानून लाई है।
  • कृषि विधेयकों के विरोध में आयोजित भारत बंद का कांग्रेस ने समर्थन किया।
  • राहुल गांधी ने वर्चुअली किसानों से बात कर उनकी राय को जाना।

By: Dhirendra

Updated: 26 Sep 2020, 07:46 AM IST

नई दिल्ली। संसद के दोनों सदनों में पारित कृषि से संबंधित तीन विधेयकों के खिलाफ किसान संगठनों की ओर से शुक्रवार को भारत बंद किया गया। कांग्रेस ने इस बंद का समर्थन करते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अभियान चलाया। जबकि पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) ने देश के चुनिंदा किसानों से वर्चुअली बात कर विधेयकों के बारे में किसानों की राय को जाना।

वर्चुअल बातचीत में किसानों ने वयनार से सांसद राहुल गांधी से कहा कि सरकार अंधा कानून लेकर आई है। वहीं राहुल ने तंज कसते हुए कहा कि पहले जहां ईस्ट इंडिया कंपनी आई थी, अब उनकी जगह वेस्ट इंडिया कंपनी आ गई है।

कृषि विधेयकों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ चल रहे किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए राहुल गांधी ने कई किसानों से बात की। इस दौरान राहुल ने किसानों से इन कानूनों से डर लगने के कारण पूछे।

संसद का सत्र चुनौतीपूर्ण रहा, लोकतंत्र हुआ मजबूत : Om Birla

एमएसपी से कम पर खरीद दंडनीय अपराध

इसके जवाब में बिहार के चंपारण के किसान धीरेंद्र कुमार ने राहुल गांधी से कहा कि यह अंधा कानून है। गरीबों-किसानों का शोषण हो रहा है। राहुल के समर्थन मूल्य पर पूछे गए सवाल के जवाब में हरियाणा के झज्जर के किसान ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा कि यदि एमएसपी से कम पर कोई खरीद करता है तो उसको दंडनीय अपराध कहना चाहिए।

किसानों का नहीं होगा भला

महाराष्ट्र के भंडार गांव के पंकज तनिराम मटेरे ने इन विधेयकों से किसानों का भला नहीं होगा, लेकिन कंपनियों के मजे हो जाएंगे। यदि किसी कंपनी ने सस्ते में माल खरीद लिया तो गरीब किसान उससे लडऩे कहां जाएगा।

किसान बनेगा मर्जी का मालिक या पूंजी का गुलाम!

महाराष्ट्र के यवतमाल के किसान ओमप्रकाश देशमुख ने साफ कहा कि यह कानून कॉरपोरेट को फायदा देने के लिए बनाए गए हैं। पहीं राकेश जाखड़ ने कहा कि यह लोग आड़तिये को दलाल कह रहे हैं। दलाल तो अब आ जाएंगे। हर चीज का निजीकरण करने में लगे हुए हैं। रेलवे-एयरपोर्ट को बेच दिया है।

किसान की आवाज, देश की आवाज

किसानों से बातचीत दौरान राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) ने कहा कि इसका विरोध करना ही होगा। सिर्फ किसान के लिए नहीं, बल्कि देश के लिए करना होगा। किसान की आवाज देश की आवाज है। किसान की आवाज से देश आजाद हुआ था।

उन्होंने कहा कि किसानों को मोदी सरकार पर रत्ती भर भी भरोसा नहीं है। किसान भाइयों की बुलंद आवाज के साथ हम सब की आवाज़ भी जुड़ी है और आज पूरा देश मिलकर इन कृषि कानूनों का विरोध करता है।

Congress
Show More
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned