देवेंद्र फडणवीस का बयानः ये कोरोना से निपटने का वक्त, राष्ट्रपति शासन या सरकार बनाने का नहीं

  • Maharashtra former CM Devendra Fadnavis का बड़ा बयान
  • बोले- ये वक्त Coronavirus से मिलकर निपटने का
  • फिलहाल Presiden Rule या सरकार बनाने का समय नहीं

By: धीरज शर्मा

Published: 28 May 2020, 05:50 PM IST

नई दिल्ली। महाराष्ट्र ( Maharashtra ) में चल रहे सियासी घटनाक्रम ( Political Crisis ) के बीच भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ( Former CM Devendra Fadanvis ) का बड़ा बयान सामने आया है। दरअसल पूर्व सीएम फडणवीस ने पार्टी नेता नारायण राणे ( Narayan Rane ) के उस बयान पर सफाई दी है जिसमें उन्होंने कहा था कि महाराष्ट्र में एक बार फिर गठबंधन सरकार पर खतरा है।

फडणवीस ने कहा है कि मौजूदा समय में ना तो महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन ( President Rule ) की जरूरत है और ना ये सरकार बनाने का सही वक्त है। ये वक्त कोरोना से लड़ने का है ऐसे में सबको मिलकर कोरोना महामारी ( coronavirus ) से निपटना होगा।

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा को हुआ कोरोना, अस्पताल के आईसीयू-7 में किया भर्ती

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस दौरान उद्धव सरकार पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में लगातार कोरोना वायरस का खतरा बढ़ रहा है। देश के 36 फीसदी मरीज अकेले महाराष्ट्र से हैं।

कोरोना के बढ़ते खतरे के पीछे महाराष्ट्र की मौजूदा सरकार का सख्ती से काम ना करना अहम कारण है।
बीजेपी नेता ने कहा कि मुंबई में हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं। ना तो अस्पताल में बेड हैं और ना एंबुलेंस मिल रही हैं। इतना ही नहीं लोग सड़कों पर भूख और प्यास से मर रहे हैं। इस संकट की घड़ी में उद्धव सरकार के इंतजाम ना काफी है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार पर लापरवाही करने के आरोप भी लगाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने गरीब लोगों को दो वक्त का भोजन तक मुहैया नहीं करवा पाई। जिन लोगों के पास राशन कार्ड थे उन्हें भी मार्च और अप्रैल में राशन नहीं मिला।

ऐसे में जिनके पास राशन कार्ड नहीं था वो भी भूख से बिलखते रह गए।
स्वास्थ्य सेवाओं में सरकार का विभाग पूरी तरह नाकाम साबित हुआ है। अस्पताल को जो पीपीई किट शुरुआती दौर में मुहैया करवाई जानी चाहिए थी वो नहीं हो सकी, नतीजा प्रदेश में लगातार कोरोना केस में जबरदस्त उछाल देखने को मिल रहा है।

ये था नारायण राणे का बयान
हाल में महाराष्ट्र के बीजेपी नेता नारायण राणे ने कहा था कि प्रदेश की महागठबंधन सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। इसके बाद राणे और एनसीपी की नेता शरद पवार ने अलग-अलग राज्यपाल से मुलाकात की। उनकी इस मुलाकात के बाद प्रदेश में सियासी सरगर्मी तेज हो गई।

कोरोना संकट के बीच चल रहे लॉकाडउन-4 में राज्य सरकारों ने बढ़ाई ढील, जानें कहां क्या मिली छूट

बीजेपी ने ही इस दौरान मुंबई में कोरोना के बढ़ते संकट के चलते राष्ट्रपति शासन की मांग कर डाली थी। बीजेपी की इस मांग पर कांग्रेस का भी पलटवार आया था। कांग्रेस ने कहा था कि बीजेपी सत्ता बाहर रहना बर्दाश्त नहीं कर पा रही है। यही वजह है कि इस तरह की बयानबाजी कर रही है।

बहरहाल पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस का ताजा बयान महाराष्ट्र के सियासी संकट के बीच काफी अहम माना जा रहा है।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned