Telangana: पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ई राजेंद्र ने थामा बीजेपी का दामन, दो दिन पहले दिया था इस्तीफा

तेलंगाना के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ई राजेंद्र ने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और किशन रेड्डी की मौजूदगी में जॉइन की बीजेपी, मंत्री पद से हाटए जाने के बाद चल रहे थे नाराज

By: धीरज शर्मा

Published: 14 Jun 2021, 02:08 PM IST

नई दिल्ली। तेलंगाना राष्ट्र समिति ( TRS ) के वरिष्ठ नेता और तेलंगाना के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री ई. राजेंद्र (Etela Rajender) ने अपने कई समर्थकों के साथ सोमवार को भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) का दामन थाम लिया। बीजेपी के केंद्रीय मंत्रियों धर्मेंद्र प्रधान और जी किशन रेड्डी की मौजूदगी में ई राजेंद्र ने पार्टी मुख्यालय में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

इस दौरान अन्य शीर्ष नेता भी मौजदू रहे। वहीं बीजेपी के वरिष्ठ नेता धर्मेंद्र प्रधान ने दावा किया कि तेलंगाना के आगामी चुनाव में बीजेपी की सरकार बनना तय है।

यह भी पढ़ेँः मोदी के गढ़ में अरविंद केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बढ़ सकती है बीजेपी की मुश्किल

तेलंगाना की सियासत में सोमवार को बड़ा घटनाक्रम देखने को मिला। यहां टीआरएस के नेता और प्रदेश के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री लंबे तनाव के बाद आखिरकार बीजेपी में शामिल हो गए। भाजपा में उनका स्वागत करते हुए प्रधान ने कहा कि तेलंगाना की राजनीति में राजेंद्र का एक महत्वपूर्ण स्थान है। उनकी मौजूदगी से पार्टी और मजबूत होगी और आगामी चुनाव में बीजेपी की सरकार बनना तय है।

बीजेपी में शामिल होने के बाद ई राजेंद्र दिल्ली स्थिति बीजेपी प्रेसिडेंट जेपी नड्डा के निवास पहुंचे और उनसे मुलाकात की। जेपी नड्डा ने भी ई राजेंद्र के भाजपा में शामिल होने पर स्वागत किया।

दरअसल ई राजेंद्र ने पिछले दिनों विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके साथ ही कुछ दिनों पहले ही उन्होंने पार्टी की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया था।

हुजूराबाद निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले राजेंद्र की गिनती तेलंगाना की सत्तारूढ़ टीआरएस के वरिष्ठ नेताओं में होती है, लेकिन पिछले कुछ समय से उनके मुख्यमंत्री केसी राव के साथ संबंधों में खटास सामने आ रही थी।

इस्तीफे के बाद उन्होंने कहा था, ‘मैं सीधा अध्यक्ष को इस्तीफा पत्र देना चाहता था लेकिन मैं उनसे मिल नहीं पाया, तो इन परिस्थितियों में मुझे विधानसभा सचिव को अपना इस्तीफा सौंपना पड़ा'

निर्वाचन क्षेत्र के लोगों के आत्म सम्मान की चिंता
ई राजेंद्र ने इस्तीफा देने से पहले कहा था कि उनके कई शुभचिंतकों ने उन्हें इस्तीफा न देने की सलाह दी, लेकिन वह अपने निर्वाचन क्षेत्र और तेलंगाना के लोगों के आत्म सम्मान की खातिर ऐसा कर रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः एलजेपी में टूट के बीच पशुपति पारस का बड़ा बयान, भतीजे चिराग को लेकर कही ये बात

ये है विवाद की वजह
राजेंद्र को उन शिकायतों के बाद पिछले महीने मंत्रिमंडल से निकाल दिया गया था कि उनके परिवार के सदस्यों के मालिकाना हक वाली कंपनियों ने राज्य में जमीनों पर कब्जा किया हुआ है। इसके बाद से ही ई राजेंद्र और सीएम केसीआर के सबकुछ ठीक नहीं चल रहा था।

BJP
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned