पश्चिम बंगाल में सर्वदलीय बैठक खत्म, BJP, TMC और CPM के नेता रहे मौजूद

पश्चिम बंगाल में सर्वदलीय बैठक खत्म, BJP, TMC और CPM के नेता रहे मौजूद

Prashant Kumar Jha | Publish: Jun, 13 2019 04:47:56 PM (IST) | Updated: Jun, 13 2019 06:14:23 PM (IST) राजनीति

  • पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा पर सर्वदलीय बैठक
    राज्यपाल ने शांति बनाए रखने की अपील की
    भाजपा-टीएमसी कार्यकर्ताओं की हो चुकी है हत्या

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा और बिगड़ते कानून-व्यवस्था को लेकर राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। भाजपा, टीएमसी और सीपीएम के नेता बैठक में शामिल हुए। बैठक में राजनीतिक बवाल को रोकने और शांति बहाल करने पर चर्चा हुई ।


इससे पहले राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने इसी सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर बंगाल में जारी सियासी घमासान की रिपोर्ट सौंपी थी। केसरीनाथ त्रिपाठी ने बंगाल में सभी दलों से शांति बनाए रखने की अपील की है। राजनीतिक हिंसा पर चिंता जताते हुए राज्यपाल ने सत्तारुढ़ दल तृणमूल कांग्रेस से प्रदेश में मजबूत कानून-व्यवस्था बनाए रखने को कहा था।

ये भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल हिंसा पर केंद्र में मंथन, राज्यपाल ने PM मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से की मुलाकात


बंगाल में जारी हैं हिंसक घटनाएं

बता दें कि लोकसभा चुनाव के सभी चरणों में बंगाल में हिंसक झड़पें हुई हैं। यहां तक चुनाव के बाद भी राज्य में हिंसक घटनाएं हो रही हैं। सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस और बीजेपी के करीब एक दर्जन से अधिक समर्थक हिंसा में मारे गए हैं।

11 जून को बंगाल में भाजपा और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक घटनाएं हुईं थीं। इसमें भाजपा के दो और टीएमसी के 1 कार्यकर्ता की हत्या हो गई थी। 12 जून को कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ पार्टी ने कोलकाता के लाल बाजार इलाके में स्थित पुलिस मुख्यालय का घेराव किया था। इसपर कोलकाता पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर आंसू गैस के गोले दागे। इसमें कई भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए थे।

ये भी पढ़ें: पंजाबः घमासान के बीच नवजोत सिंह सिद्धू के लिए अच्छी खबर, दूसरी पार्टियों ने दिया शामिल होने का न्योता

ममता बनर्जी ने पहली बार राजनीतिक हिंसा की बात कबूली

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पहली बार बंगाल में राजनीतिक हिंसा होने की बात को स्वीकार किया। मंगलवार को ममता बनर्जी ने दावा किया कि लोकसभा चुनाव के बाद से 10 लोगों की मौत हुई है और इनमें से आठ तृणमूल कांग्रेस के लोग हैं और दो भाजपा के कार्यकर्ता हैं। सरकार मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने की तैयारी कर रही है।

ये भी पढ़ें: देश भर में चक्रवाती तूफान 'वायु' से नुकसान का खतरा कम

बीजेपी कर सकती है राष्ट्रपति शासन की मांग
बंगाल में राजनीतिक बवाल के बाद भाजपा राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग पर विचार कर रही है। भाजपा महासचिव और पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने राष्ट्रपति शासन लगाने को लेकर प्रतिक्रिया दी थी ।

विजयवर्गीय ने कहा कि बीजेपी वैचारिक तौर पर राष्ट्रपति शासन से खिलाफ है लेकिन ममता बनर्जी राज्य को संभालने में पूरी तरह नाकाम हैं। उन्होंने कहा कि अगर बंगाल में ऐसे ही हालात रहे तो केंद्र को हस्तक्षेप करना पड़ सकता है, इसलिए हम धारा 356 की मांग करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned