Gujarat: BJP सांसद मनसुख वसावा का यू-टर्न, इस वजह से वापस लिया इस्तीफा

  • Gujarat के भरूच से BJP सांसद मनसुख वसावा ने लिया यू-टर्न
  • 24 घंटे में बीजेपी ने दूर की मनसुख की नाराजगी
  • सीएम विजय रूपाणी के साथ 45 मिनट की मुलाकात के बाद हुआ डैमेज कंट्रोल

By: धीरज शर्मा

Published: 30 Dec 2020, 02:06 PM IST

नई दिल्ली। गुजरात ( Gujarat ) के भरूच से बीजेपी ( BJP ) सांसद मनसुख वसावा ( Mansukh Vasava ) ने 24 घंटे के अंदर ही अपने इस्तीफे के फैसले से यू-टर्न ले लिया है। वसावा ने पार्टी नीतियों से नाराजगी के लिए मंगलवार को इस्तीफा दे दिया था। हालांकि बीजेपी ने एक दिन के अंदर ही मनसुख वसावा को मना लिया है।

आपको बता दें कि मनसुख वसावा की आदिवासी वर्ग में खासी पैठ है। ऐसे में उनके से इस्तीफे से माना जा रहा था कि बीजेपी को प्रदेश में बड़ा नुकसान हो सकता है।

महाराष्ट्र में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, प्रदेश महासचिव ने सोनिया गांधी को लिखे खत में किया चौंकाने वाला खुलासा

45 मिटन की मुलाकात में माने मनसुख
मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से मुलाकात के बाद मनसुख वसावा ने अपना इस्तीफा वापस लेने का फैसला कर लिया है। दोनों नेताओं की करीब 45 मिनट तक मीटिंग चली। इसके बाद मनसुख वसावा ने बीजेपी छोड़ने का अपना निर्णय वापस ले लिया है।

मनसुख वसावा ने इस्तीफे का फैसला ऐसे वक्त में लिया था जब पिछले एक महीने से वो इको-सेंसिटिव जोन और आदिवासी लड़कियों की खरीद-फरोख्त को लेकर बीजेपी आलाकमान को लगातार अवगत करा रहे थे। उनकी मांग थी कि इन मुद्दों को तुरंत सुलझाया जाए। पार्टी की ओर से खास तवज्जो ना मिलने पर नाराज वसावा ने सांसद पद से इस्तीफा दे दिया था।

आपको बता दें कि गुजरात के कद्दावर नेताओं में मनसुख वसावा की गिनती की जाती है। वे 6 बार लोकसभा का चुनाव जीतकर सांसद बन चुके हैं। 64 वर्षीय मनसुख वसावा ने 1994 में सबसे पहले विधानसभा का चुनाव जीतकर अपने तेवर साफ कर दिए थे।

इस दौरान उन्हें गुजरात सरकार में डिप्टी मिनिस्टर भी बनाया गया था। यही नहीं पिछली मोदी सरकार में भी वे केंद्रीय राज्यमंत्री का पद संभाल चुके हैं। हालांकि 2019 के चुनाव जीतने के बाद वे मोदी मंत्रिमंडल में जगह बनाने में कामयाब नहीं हो सके।

किसान आंदोलन के बीच बीजेपी की बड़ी हार, इस राज्य के चुनाव में मिली करारी शिकस्त

इसलिए जरूरी था डैमेज कंट्रोल
दरअसल गुजरात में भी जनवरी महीने में निकाय चुनाव होना है। ऐसे में बीजेपी किसी भी कीमत पर पार्टी के लिए कोई डैमेज नहीं चाहती है। यही वजह है कि दिग्गज नेता को मनाकर चुनाव से पहले पार्टी ने डैमेज कंट्रोल कर लिया है।

Amit Shah pm modi
Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned