गुजरात चुनाव: 68% वोटिंग के साथ पहला चरण खत्म, 10 बड़ी बातें

गुजरात के पहले चरण के विधानसभा चुनाव में 89 सीटों पर 68 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। पढ़िए पहले चरण के मतदान की 10 बड़ी बातें

By: Chandra Prakash

Updated: 09 Dec 2017, 09:14 PM IST

नई दिल्ली: गुजरात के पहले चरण के विधानसभा चुनाव में 89 सीटों पर 68 फीसदी मतदाताओं ने अपने मतों का प्रयोग किया। निर्वाचन आयोग (ईसी) ने कहा कि इस आंकड़े के 70 फीसदी पार कर जाने की संभावना है। "कई जगहों पर देर तक मतदान जारी रहने की खबरें हैं। पांच बजे तक कतार में लगे हुए लोगों को वोट देने का मौका दिया जाएगा।" उन्होंने कहा कि मतदान के अंतिम आंकड़े देर शाम तक सबके सामने आएंगे।

VIDEO: EVM के ब्लूटूथ से कनेक्ट होने की मिली शिकायत, मचा हड़कंप

70 फीसदी मतदान की उम्मीद
पहले चरण में 19 जिलों की 89 सीटों पर 68 फीसदी मतदान दर्ज किया गया है और यह आंकड़ा 71 फीसदी तक पहुंचने की उम्मीद है। पिछले विधानसभा चुनाव में भी समान मतदान 70.7 प्रतिशत दर्ज किया गया था।

हार्दिक पटेल का खुलासा, इस शर्त पर थामेंगे कांग्रेस का हाथ

किस जिले में कितनी वोटिंग
कच्छ जिले में 63 फीसदी, सुरेंद्रनगर में 75, मोरबी में 75, राजकोट में 70, जामनगर में 65, भरुच में 71, नर्मदा में 73, खेड में 73, पोरबंदर में 60, देवभूमि द्वारका में 63, गिर सोमनाथ में 70, अमरेली में 67, भावनगर में 62, सूरत में 70, नवसारी में 75, वलसाद में 70, बोटड में 60, तापी में 73, जूनागढ़ में 65, डांग में 70 फीसदी मतदान दर्ज किया गया।

मोदी बोले- कांग्रेस ने लांघी मर्यादा, अब मेरे माता-पिता के बारे में पूछ रही

इवीएम से कोई छेड़छाड़ नहीं
सिन्हा ने कहा कि इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के ब्लूटूथ से कनेक्ट होने की शिकायतें आई थी लेकिन सभी खबरें पूर्ण रूप से झूठी पाई गईं। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा पहली दफा हुआ है कि बड़े पैमाने पर ईवीएम के साथ वीवीपैट (वोटर-वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्राइल)का इस्तेमाल किया गया है।

बस में बैठने के लिए पब्लिक के साथ लाइन में लगे राहुल गांधी, तस्वीरें वायरल

2019 के लिए लिटमस टेस्ट
पहले चरण का चुनाव मोदी व राहुल दोनों के लिए लिटमस टेस्ट साबित होगा। 22 वर्षों से लगातार पांच विधानसभा चुनाव जीतती आ रही भाजपा के लिए यह चुनाव काफी अहम है। पाटीदार, दलित और ओबीसी आंदोलन सत्ताधारी दल के लिए चुनौती बनी है।


पहली बार सीएम के लिए मोदी नहीं
पिछले तीन चुनावों में मोदी के रथ पर सवार भाजपा की ओर से मोदी पहली बार सीएम चेहरा नहीं हैं, वहीं राज्यसभा चुनाव में अहमद पटेल की जीत के बाद कांग्रेस में नए उत्साह का संचार हुआ।


दांव पर प्रतिष्ठा
मोदी के गृह राज्य में चुनाव हो रहा है और भाजपा अपनी जमीन बचाने में पूरी तरह लगी है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में आरूढ़ हो रहे राहुल के लिए भी यह नाक का सवाल होगा। जीएसटी के अमलीकरण के बाद पहला चुनाव है जो एक अहम फैक्टर साबित हो सकता है।


सीएम सहित कई अहम प्रत्याशी
पहले चरण में अहम प्रत्याशियों में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी (राजकोट-पश्चिम), भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी (भावनगर पश्चिम), कैबिनेट मंत्रियों-जयेश रादडिय़ा व बाबू बोखीरिया, कांग्रेस नेता शक्तिसिंह गोहिल (अबडासा), अर्जुन मोढ़वाडिया (पोरबंदर) परेश धानाणी (अमरेली) चुनाव मैदान में हैं।


मोदी की 15 रैलियां, राहुल ने सात दिन गुजारे
मोदी ने जहां इन दो इलाकों में जहां 15 रैलियां की वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल ने इन इलाकों में सात दिन गुजारे। इसके अलावा भाजपा ने केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली , स्मृति इरानी, रविशंकर प्रसाद, राजनाथ सिंह , यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई स्टार प्रचारकों को चुनावी समर में झोंका, वहीं कांग्रेस ने अपने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सचिन पायलट , सिंधिया व राज बब्बर की सेवाएं लीं।


जीत के लिए बीजेपी आश्वस्त
केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि भाजपा गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में जिस तरह से मतदान हुआ, उससे संतुष्ट है। उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी भारी जीत की ओर बढ़ रही है। जेटली ने कहा, "आज जिस तरीके से चुनाव हुआ है, हम पूरा संतोष जाहिर करते हैं। उन्होंने कहा, "हमें जिस तरह से समर्थन मिल रहा है, हमारा अनुमान है कि पार्टी भारी जीत की ओर बढ़ रही है और हम एक बार फिर अगले पांच सालों तक गुजरात की जनता की सेवा करेंगे।"

BJP
Show More
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned