फारूक अब्दुल्ला को बीजेपी ने बताया शेर, भारत माता की जय कहने पर फेंके गए थे जूते

फारूक अब्दुल्ला को बीजेपी ने बताया शेर, भारत माता की जय कहने पर फेंके गए थे जूते

Chandra Prakash Chourasia | Publish: Aug, 22 2018 09:39:11 PM (IST) राजनीति

भारत माता की जय कहने पर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला पर जूते फेंके गए थे। इसके बाद बीजेपी अब्दुल्ला के साथ खड़ी हो गई है और उन्हें शेर बताया है।

नई दिल्ली। भारत माता की जय कहने पर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला का विरोध हुआ है। इसके बाद बीजेपी अब्दुल्ला को साथ खड़ी हो गई है और उन्हे शेर बताया है। बीजेपी ने कहा कि फारूक विरोध करने वाले गीदड़ों से डरने वाले नहीं हैं। बता दें श्रीनगर में ईद की नमाज पढ़ने ईदगाह गए अब्दुल्ला कुछ लोगों ने जूते तक फेंके और शेम-शेम के नारे लगाए हैं।

शेर हैं फारूक अब्दुल्ला: बीजेपी

जम्मू कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष रविंद्र रैना ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि फारूक अब्दुल्ला शेर आदमी हैं। वे इन गीदड़ पत्थरबाजों से डरने वालों में से नहीं है। रैना ने कहा कि जम्मू कश्मीर में उपद्रव और आतंक फैलाने वाले इन पत्थरबाजों का इलाज करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में कुछ लोगों को दिल पाकिस्तान के लिए धड़कता है, ऐसे लोगों को चुन चुनकर मौत के घाट उतारेंगे।

यह भी पढ़ें: केरल बाढ़ः केंद्र ने विदेशी मदद को इनकार किया तो भड़के सीएम बोले-दूसरा देश नहीं है यूएई

ईदगाह में हुआ विरोध, फेंके गए जूते

बुधवार को श्रीनगर के हजरतबल दरगाह में अब्दुल्ला ईद की नमाज पढ़ने गए थे। जिस वक्त फारूक अब्दुल्ला दरगाह में प्रवेश कर रहे थे इमाम लोगों को आर्टिकल 35ए के बारे में बता रहे थे। इसी बीच फारूक को देख लोग भड़क गए और अब्दुल्ला के खिलाफ और आजादी संबंधी नारे लगाने लगे। इस दौरान के उनके साथ धक्कामुक्की की गई और उन पर जूते तक फेंके गए। इससे अफरा-तफरी का माहौल बन गया, जिसके चलते फारूक को मजबूरन नमाज स्थल से वापस लौटना पड़ा।

अब्दुल्ला बोले- मैं पाकिस्तान से नहीं आया

घटना के बाद मीडिया से बात करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि मैं किसी भी तरह के विरोध से नहीं ड़रता हूं। इसी मुल्क की धरती पर पैदा हुआ और यहीं मरूंगा। हम कोई पाकिस्तान से नहीं आए हैं। उन्होंने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच शांति मिलकर बात करने से ही हो सकती है। सिर्फ नारे लगाने से किसी को आजादी नहीं मिल सकती है।

भारत माता की जय कहने पर हुआ विरोध

बता दें कि फारूक अब्दुल्ला का विरोध इसलिए हो रहा है, क्योंकि उन्होंने कुछ दिनों पहले भारत माता की जय के नारे लगाए थे। बता दें कि दिल्ली में आयोजित पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की श्रद्धांजलि के दौरान फारूक अब्दुल्ला ने बड़े ही जोश के साथ भारत माता की जय के नारे लगाए थे, जिसकी जमकर तारीफ भी हो रही है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned