जेडीएस नेता का बड़ा बयान, बहुमत का सम्‍मान नहीं हुआ तो होगी लोकतंत्र की हत्‍या

सरकार गठन को लेकर भाजपा की रणनीति से जेडीएस-कांग्रेस के नेता सकते में।

By: Dhirendra

Published: 16 May 2018, 12:29 PM IST

नई दिल्‍ली। कर्नाटक में सियासी हलचल के बीच जेडीएस के नेता व प्रवक्‍ता दानिश अली ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश के राज्‍यपाल को बहुमत का सम्‍मान करना चाहिए। जेडीएस और कांग्रेस के पास बहुमत का मैजिक नंबर है। इसलिए मुझे आशा है कि राज्यपाल अपने संवैधानिक कर्तव्यों का निर्वहन गरिमापूर्ण तरीके से करेंगे और जेडीएस-काग्रेस गठबंधन के नेता कुमार स्‍वामी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करेंगे। अगर ऐसा नहीं हुआ तो यह लोकतंत्र की हत्‍या होगी।

जेडीएस विधायकों के संपर्क में हैं भाजपा नेता
दानिश अली ने कहा कि भाजपा नेता बहुमत को दरकिनार कर राज्‍यपाल पर सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने का दबाव बना रहे हैं। यह लोकतंत्रिक नैतिकता के खिलाफ है। भाजपा खुद की हार को पचा नहीं पा रही है। केंद्र की सत्‍ता के दम पर गैर लोकतांत्रिक तरीके से भाजपा वाले सरकार बनाने में लगे हैं। अगर ऐसा हुआ तो यह पूरी तरह से गैर संवैधानिक होगा। उन्‍होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि भाजपा वाले जेडीएस और कांग्रेस के विधायकों को क्‍या पेशकश कर रहे हैं। लेकिन वे हमारे विधायकों के संपर्क में हैं। उन्‍होंने दावा किया कि जेडीएस के सभी विधायक एक साथ हैं। जेडीएस के विधायकों को तोड़ने का उनका मंसूबा कामयाब नहीं होगा।

संवैधानिक गरिमा का पालन करें राज्‍यपाल
दूसरी तरफ जेडीएस और कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए बेंगलुरु में डेरा डाले राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि भाजपा उनके विधायकों को धमका रही है। उन्होंने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह जोड़-तोड़ की मदद से सरकार बनाने की हर संभव कोशिश कर रही है। आजाद ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि कांग्रेस और जेडीएस विधायकों को लालच दिए जा रहे हैं, उनको डराया धमकाया जा रहा है। आजाद ने भाजपा और केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर राज्यपाल ने संवैधानिक मूल्यों का पालन नहीं किया और कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को सरकार बनाने के लिए निमंत्रित नहीं किया तो कर्नाटक की सड़कों पर खून बहेगा। उन्होंने भाजपा पर कांग्रेस और जेडीएस विधायकों के असंतुष्ट होने की अफवाहें फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा अपने विधायकों की चिंता करे।

 

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned