बिहार : सरफराज आलम जदयू छोड़ राजद में शामिल हुए, विधायकी से भी दिया इस्‍तीफा

अररिया लोकसभा चुनाव के साथ बिहार में जहानाबाद व भभुआ विधानसभा सीट के लिए 11 मार्च को चुनाव होना है।

By: Mazkoor

Updated: 10 Feb 2018, 05:33 PM IST

पटना : जब से बिहार में नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड का लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्‍ट्रीय जनता दल से गठबंधन टूटा है, तब से ही यह कयास लगाए जा रहे हैं कि कांग्रेस और राजद में टूट हो सकती है। लेकिन जमीन पर इसका उलट दिख रहा है। गठबंधन टूट की घोषणा होने के बाद शरद यादव के नेतृत्‍व में पहले जदयू का एक बड़ा धड़ा अलग हो गया तो बिहार में लोकसभा व विधानसभा उपचुनाव की घोषणा के तुरत बाद अब एक जेडीयू विधायक सरफराज आलम ने पार्टी छोड़ दी है।

विधायकी से दिया इस्‍तीफा
मालूम हो कि लोकसभा की एक सीट पर बिहार में उपचुनाव होना है। इस सीट से पहले राजद नेता तस्लीमुद्दीन सांसद थे। हाल में उनका निधन हो गया था, तब से यह सीट खाली पड़ी है। इस सीट का प्रबल दावेदार तस्लीमुद्दीन के बेटे सरफराज आलम को माना जा रहा था। हालांकि, सरफराज आलम अररिया के जोकीहाट विधानसभा क्षेत्र से जदयू के विधायक हैं। माना जा रहा था कि उपचुनाव में इस सीट से वह जदयू से दावेदारी ठोकेंगे, लेकिन शनिवार को उन्‍होंने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और राजद की उपाध्‍यक्ष और लालू प्रसाद की पत्‍नी तथा पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी से मिलने वह उनके आवास पर पहुंच गए।

राजद की सदस्‍या भी ग्रहण कर ली
राबड़ी देवी से मिलने के बाद अचानक उन्‍होंने राजद के एक और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी की मौजूदगी में राजद की प्राथमिक सदस्यता ले ली। सदस्‍यता लेने के बाद उन्होंने कहा कि पूरी सीमांचल की जनता राजद में शामिल होने के लिए उन पर दबाव डाल रही थी। सबसे ज्यादा दबाव उस वक्त पड़ा जब बीमार तस्लीमुद्दीन साहब के निधन के बाद क्षेत्र की जनता समेत मां भी कहने लगी कि जिस पार्टी के तस्लीमुद्दीन साहब फाउंडर थे, उसी में शामिल हो जाओ। इसी कारण वह अपने पुराने घर में वापसी कर रहे हैं। वे जनभावना का आदर करते हैं। इतने दिनों से लोगों की राय सुनने के बाद उन्‍होंने इस्तीफा दिया है।

अररिया से लड़ सकते हैं चुनाव
चुनाव लड़ने के मुद्दे पर आलम ने कहा कि यह अररिया की जनता तय करेगी। हालांकि उम्‍मीद जताई जा रही है कि वह अररिया से लोकसभा का चुनाव राजद से लड़ेंगे। आलम ने कहा कि जदयू जब तक सेक्यूलर था, तब तक वह वहां थे। तब तक व़ह पार्टी ठीक थी, जब गठबंधन टूटा, तब मैंने वापसी की। वे कहां से चुनाव लड़ेंगे, यह फैसला पार्टी का होगा।

जदयू से और विधायक भागेंगे, मांझी पर विचार कर सकते हैं
बकौल शिवानंद तिवारी, सरफराज ने कहा है कि जदयू में और कई विधायक हैं, ज्रो पूरे देश की स्थिति देखकर बेचैन हैं। आगे चल कर और भी जदयू विधायक राजद में आ सकते हैं. उन्‍होंने कहा कि जीतन राम मांझी की ओर से भी कोई बात आती है, तो हमलोग विचार कर सकते हैं।

 

ट़्वीट : तेजस्‍वी तो अभी बच्‍चा है न जी
सरफराज आलम की इस्तीफा पर पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर कहा कि नीतीश कुमार के एक और विधायक ने जदयू से इस्तीफा दे दिया इंतजार कीजिए, अभी कितनी टूट होगी और होगी। तेजस्वी, तो अभी बच्चा है न जी।

11 मार्च को होना है चुनाव
चुनाव आयोग ने हाल ही में अररिया लोकसभा चुनाव के साथ बिहार में जहानाबाद व भभुआ विधानसभा सीट के लिए चुनाव की अधिसूचना जारी की है। 11 मार्च को चुनाव होना है। उस सीट पर पहले राजद नेता तस्लीमुद्दीन सांसद थे।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned