कर्नाटक में सियासी संकट : भाजपा चुनी सरकार को तोड़ने की कोशिश कर रही- खड़गे

  • कर्नाटक में 13 विधायकों का इस्तीफों से हड़कंप
  • इस्तीफे स्वीकार करने के बाद अल्पमत में आ जाएगी सरकार
  • मंगलवार को कांग्रेस ने विधायकों की बैठक बुलाई

By: Prashant Jha

Updated: 08 Jul 2019, 07:31 AM IST

नई दिल्ली। कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन ( Karnataka political crisis ) की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। 13 विधायकों के इस्तीफे के बाद दोनों दलों में बैठकों का दौर जारी है। हालांकि बागी विधायक लौटने को तैयार नहीं है। इस बीच मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ( H D Kumaraswamy) अमरीका से लौट गए हैं। दिल्ली से चार्टर्ड प्लेन के जरिए वो बैंगलुरु पहुंचे। जेडीएस विधायक दल की बैठक हुई। ताज वेस्ट एंड होटल में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी, जेडीएस नेता एच. डी. देवगौड़ा, डिप्टी सीएम जी. परमेश्वरा और कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता बैठक में मौजूद रहे। बता दें कि इस्तीफे देने वालों में से 3 जेडीएस के विधायक भी शामिल हैं। बता दें कि कर्नाटक सरकार से 13 विधायकों ने इस्तीफा दिया है।

 

भाजपा सरकार गिराने की कोशिश में जुटी- खड़गे

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि कुछ विधायक मुंबई गए हैं, उनपर भारी दवाब है और उन्हें कई बातें बताई गईं हैं। केन्द्र सरकार की मदद से राज्य में भाजपा सक्रिय है। केन्द्र गठबंधन तोड़ने में दिलचस्पी दिखा रहा है। खड़गे ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि यह संवैधानिक रूप से चुनी हुई सरकार है। संविधान के मुताबिक सरकार चलनी चाहिए। लेकिन भाजपा इसे तोड़ने में जुटी है। 14 राज्यों में वे न केवल कांग्रेस विधायकों को बल्कि क्षेत्रिए दलों के विधायकों पर भी दबाव डाल रही है ।

 

ये भी पढ़ें: सोमवार को RBI बोर्ड को संबोधित करेंगी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, बजट की घोषणाओं पर करेंगी चर्चा

इस्तीफा वापस लेने का सवाल ही नहीं- बागी विधायक

कर्नाटक में जारी सियासी घटनाक्रम में नया मोड़ आ गया है। कांग्रेस-जेडीएस के बागी विधायक मुंबई के होटल में ठहरे हुए हैं। बागी विधायक सोमशेखर ने साफ कर दिया है कि वो अपना इस्तीफा वापस नहीं लेंगे। साथ ही कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे। सोमशेखर ने मुंबई में कहा कि हम 10 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। इस बारे राज्यपाल को जानकारी दी जा चुकी है। हम अपने फैसले पर अडिग हैं। उन्होंने साफ कर दिया कि हमारी तरफ से मुख्यमंत्री बदलने की मांग नहीं की गई है।

 

कांग्रेस- जेडीएस जिम्मेदार- जोशी

वहीं कर्नाटक में सियासी संकट के लिए केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने कांग्रेस-जेडीएस के जिम्मेदार ठहराया है। प्रह्लाद जोशी ने कहा सिद्धारमैया मौजूदा सीएम कुमारस्वामी को साइड लाइन करने में जुटे हुए हैं और मौजूदा हालत उसी की बानगी है।

सिद्धारमैया को सीएम बनाने की तैयारी

वहीं बागी विधायकों में से कुछ विधायकों ने अपना इस्तीफा वापस लेने के लिए शर्त रख दी है। विधायकों की शर्त है कि अगर सिद्धारमैया को मुख्यमंत्री पद दिया जाएगा तभी वो अपना इस्तीफा वापस ले लेंगे। जेडीएस नेता जीटी देवगौड़ा का कहना है कि सम्वन्य समिति अगर सिद्धारमैया को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला करेगी तब भी हम तैयार हैं।

मंगलवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक

वहीं कांग्रेस ने मंगलवार सुबह 10:30 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है। इससे पहले कांग्रेस नेता डी के शिवकुमार ने कहा कि हमें पूरा भरोसा है कि य़ह मामला ठंडा हो जागए। सभी बागी विधायक हमारे साथ आएंगे और कर्नाटक में गठबंधन की सरकार मजबूत ढंग से चलेगी।

मुंबई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का विरोध प्रदर्शन

वहीं मुंबई के सोफीटल होटल में ठहरे कांग्रेस के 10 बागी विधायकों को इस्तीफा वापस लेने के लिए महाराष्ट्र यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने होटल के बाहर विरोध-प्रदर्शन किया। हालांकि इस दौरान पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया।

ये भी पढ़ें: कर्नाटक में सरकार बनाने को तैयार BJP, सदानंद बोले- हमारे पास 105 विधायक

खड़गे ने भाजपा पर साधा निशाना

वहीं कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि जेडीएस गठबंधन की सरकार जारी रहे। खड़गे ने नाम लिए बगैर कहा कि भाजपा की ओर से मीडिया में भ्रामक सूचनाएं फैलाई जा रही है ताकि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के बीच फूट डाला जाए । कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि रामलिंगा रेड्डी पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। वह लंबे समय से बेंगलुरु में कांग्रेस का किला संभाले हुए हैं। उनकी शिकायतों पर पार्टी विचार करेगी और उसे दूर करने की कोशिश करेगी।

भाजपा के पास 105 विधायक मौजूद

गौरतलब है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 70 और जेडीएस को 35 सीटों पर जीत मिली थी। विधानसभा में कांग्रेस-जेडीयू गठबंधन के 115 सदस्य हैं। जबकि सबसे बड़ी पार्टी भाजपा 105 सीटों पर जीत दर्ज की थी। सरकार को बहुमत में बने रहने के लिए 224 सीटों वाली विधानसभा में सरकार के पास 114 विधायकों को होना जरूरी है। सरकार के पास अभी बहुमत से तीन सीट ज्यादा है।

Show More
Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned