न्यायालय का फैसला राज्यों की शक्तियों का हनन : करूणानिधि

न्यायालय का फैसला राज्यों की शक्तियों का हनन : करूणानिधि
karunanidhi

करूणानिधि ने एक बयान में कहा कि यह आदेश राज्य के अधिकारों का उल्लंघन करता है

चेन्नई। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) के अध्यक्ष एम.करूणानिधि ने कहा कि सरकारी विज्ञापनों में मुख्यमंत्री की तस्वीरों के इस्तेमाल पर रोक से संबंधित सर्वोच्च न्यायालय का फैसला राज्य सरकार की शक्तियों का हनन है। करूणानिधि ने गुरूवार को एक बयान में न्यायालय के फैसले को राज्यों की शक्तियों का हनन बताया।

न्यायालय ने बुधवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में सरकार तथा इसकी एजेंसी के विज्ञापन में मंत्रियों सहित राजनीतिक हस्तियों की तस्वीर लगाए जाने पर रोक लगा दी थी और कहा था कि यह व्यक्ति पूजा को बढ़ावा देने जैसा है।

करूणानिधि ने कहा कि भारतीय संविधान के सहकारी संघवाद के सिद्धांत के अनुसार प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को समान दर्जा प्राप्त है।

उन्होंने कहा, वास्तव में राज्यों की जनता प्रधानमंत्री की अपेक्षा मुख्यमंत्री को ज्यादा महत्व देती है। तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और मुख्यमंत्री राजनीतिक पार्टियों द्वारा चुने जाते हैं।

उन्होंने कहा, जिन आधारों पर सरकारी विज्ञापनों में राष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री की तस्वीरों का इस्तेमाल करने की अनुमति दी गई है, वे मुख्यमंत्रियों की तस्वीरों के इस्तेमाल पर भी लागू होते हैं।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned