कठुआ गैंगरेप केस: महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला का बड़ा बयान, सजा हो ऐसी जो मिसाल बने

कठुआ गैंगरेप केस: महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला का बड़ा बयान, सजा हो ऐसी जो मिसाल बने

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Jun, 10 2019 03:01:05 PM (IST) | Updated: Jun, 10 2019 03:49:45 PM (IST) राजनीति

  • महबूबा मुफ्ती बोलीं अदालत ऐसी सजा दे जो मिसाल बने
  • उमर अब्‍दुल्‍ला ने नियमों के मुताबिक सख्‍त सजा देने की मांग की
  • डेढ़ साल पहले जम्मू के कठुआ स्थित एक गांव की है यह घटना

नई दिल्ली। जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ में 8 साल की बच्‍ची के साथ गैंगरेप और हत्‍या के मामले में पठानकोट की विशेष अदालत ने 8 में से 6 आरोपियों को दोषी करार दिया है। विशेष अदालत द्वारा आरोपियों को दोषी करार देने के फैसले का जम्‍मू-कश्‍मीर की पूर्व मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्‍दुल्‍ला ने स्‍वागत किया है। उन्‍होंने उम्‍मीद जाहिर की है कि विशेष अदालत दोषियों को कड़ी सजा सुनाएगी।

 

दोषियों को ऐसी सजा मिले जो मिसाल बने

महबूबा मुफ्ती ने अपने ट्वीट में लिखा है कि इस फैसले का स्वागत करती हूं। यह समय ऐसे घिनौने अपराधों पर राजनीति करने का नहीं है जहां एक 8 साल की बच्चों को नशीले पदार्थ दिए गए, उसका रेप किया गया और फिर मौत की नींद सुला दिया गया। उम्मीद है कि हमारी न्यायिक व्यवस्था की खामियों का फायदा नहीं उठाया जाएगा और दोषियों को ऐसी सजा दी जाएगी जो मिसाल बनेगी।

 

सख्‍त सजा मिले

पठानकोट की विशेष अदालत का फैसला आने के बाद नेशनल कांफ्रेंस के नेता और जम्‍मू-कश्‍मीर के पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला ने इसका स्‍वागत किया है। उन्‍होंने कहा है कि कानून के तहत दोषियों को सख्‍त सजा मिलनी चाहिए।

 

kathua

इस घटना ने कर दिया था देश को स्‍तब्‍ध

आपको बता दें कि कठुआ के वकीलों द्वारा अपराध शाखा के अधिकारियों को इस मामले में आरोपपत्र दाखिल करने से रोकने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को जम्मू कश्मीर से पठानकोट स्थानांतरित कर दिया था। इस वीभत्‍स घटना ने पूरे देश को स्तब्ध कर दिया था।

राज्‍य सरकार के दो मं‍त्रियों को अपने पद से इस्‍तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा था। अपराध शाखा के अधिकारियों के 15 पन्नों के आरोपपत्र के मुताबिक पिछले साल 10 जनवरी को अगवा की गई 8 साल की बच्ची को कठुआ जिले के रसाना गांव के मंदिर में कथित तौर पर बंधक बनाकर उसके साथ बलात्कार किया गया।

चार दिन तक बेहोश रखने के बाद उसकी हत्या कर दी गई। अपराध शाखा ने इस मामले में ग्राम प्रधान सांजी राम, उसके बेटे विशाल, किशोर भतीजे तथा उसके दोस्त आनंद दत्ता सहित आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned