चिराग पासवान बोले- लोकसभा चुनाव में राम मंदिर नहीं विकास मुद्दा होना चाहिए

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के सांसद चिराग पासवान ने मंगलवार को एकबार फिर राम मंदिर को चुनावी मुद्दा मानने से इनकार करते हुए कहा कि चुनाव में विकास ही मुद्दा होना चाहिए।

By: Anil Kumar

Updated: 15 Jan 2019, 10:52 PM IST

नई दिल्ली। आम चुनाव का समय करीब आ रहा है और सियासी दलों में सियासी बयानबाजी शुरु हो गया है। एक तरफ अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मामला फिर से सियासी हो गया है और इसपर विकास बनाम मंदिर को लेकर बहस भी जारी है। इसी कड़ी में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के सांसद चिराग पासवान ने मंगलवार को एकबार फिर राम मंदिर को चुनावी मुद्दा मानने से इनकार करते हुए कहा कि चुनाव में विकास ही मुद्दा होना चाहिए। उन्होंने कहा, "अयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे पर अदालत का जो फैसला होगा, हमसब को स्वीकार होगा।"

कर्जमाफी पर कांग्रेस को बसपा सुप्रीमो मायावती की नसीहत, आरक्षण पर भाजपा के लिए दिया यह संदेश

मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे

बता दें कि चिराग पासवान ने सवर्ण वर्ग के गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण देने के संबंध में बात की। उन्होंने आगे कहा कि सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण से समाज में अमीर और गरीब के बीच खाई पाटने में मदद मिलेगी। चिराग ने राम मंदिर विवाद की चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कह चुके हैं वह इस मामले में अदालत के फैसले का इंतजार करेंगे और अध्यादेश नहीं लाएंगे। उन्होंने कहा कि शिवसेना ने चुनाव के समय राम मंदिर का मुद्दा उठाया है, जिसकी लोजपा ने आलोचना भी की थी। पटना में एक निजी समाचार चैनल के कार्यक्रम में लोजपा के प्रमुख रामविलास पासवान को 'मौसम वैज्ञानिक' कहे जाने के संदर्भ में पूछे गए एक सवाल पर जमुई के सांसद चिराग ने कहा कि उनकी पार्टी चुनावों से पहले ही किसी पार्टी के साथ गठबंधन करती है, ना कि चुनाव के बाद।

गठबंधन के बाद फिर बढ़ी भाजपा की मुश्किलें, अब राममंदिर को लेकर इन्होंने कर दिया बड़ा ऐलान

नोटबंदी से क्या लाभ हुआ इसके बारे में जानना चाहता हूं: चिराग

उन्होंने कहा, "अटल जी की सरकार के साथ भी लोजपा ने चुनाव से पहले गठबंधन किया था और 2000 में कांग्रेस के साथ गए थे। इसके बाद 10 साल संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के साथ रहे थे। 2014 में भी चुनाव के पूर्व राजग के साथ आ गए।" हाजीपुर से चुनाव लड़ने के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि यह पार्टी तय करेगी। लोजपा के नेता ने नोटबंदी को लेकर वित्तमंत्री और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र के विषय में पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि उन्हें अब तक उस पत्र का जवाब नहीं मिला है। उन्होंने हालांकि फिर कहा कि वे नोटबंदी के लाभ के विषय में आज भी सरकार से जानना चाहते हैं। बता दें कि इससे पहले भी बिहार में सीटों के बंटवारे को लेकर मचे सियासी घमासान के दौरान चिराग ने मोदी सरकार से पूछा था कि नोटबंदी से देश को क्या फायदा हुआ? इसके बाद सियासी बवाल मच गया था।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned