2019 में मोदी के साथ पर बोले नीतीश कुमार, 'अलायंस-वलायंस छोड़िए, अब कोई समझौता नहीं'

2019 में मोदी के साथ पर बोले नीतीश कुमार, 'अलायंस-वलायंस छोड़िए, अब कोई समझौता नहीं'

| Publish: Jun, 19 2018 01:33:53 PM (IST) राजनीति

मोदी के साथ बनते-बिगड़ते रिश्तों का लंबा दौर देखने वाले बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के नेता नीतीश कुमार ने एक दिलचस्प बयान दिया है। उनसे एनडीए में बने रहने को लेकर सवाल पूछा गया था।

पटना। लोकसभा चुनाव 2019 की घड़ी जैसे-जैसे नजदीक आ रही है। गठबंधन की राजनीति में दिलचस्प बयान बढ़ते जा रहे हैं। मोदी समर्थक और विरोधी दोनों तरह के गठबंधन में हलचल तेज है। अब मोदी के साथ बनते-बिगड़ते रिश्तों का लंबा दौर देखने वाले बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के नेता नीतीश कुमार ने एक दिलचस्प बयान दिया है। उनसे एनडीए में बने रहने को लेकर सवाल पूछा गया था।

क्राइम, करप्शन, कम्युनलिज्म से नहीं कोई समझौता नहीं

एक समारोह में शिरकत करने पहुंचे नीतीश कुमार ने लोकसभा चुनाव 2019 में एनडीए के साथ रहने या साथ छोड़ने को लेकर के सवाल पर कहा, 'बहुत लोगों अलायंस-वलायंस पर परेशानी होने लगती है, उसको छोड़िए। काम के एजेंडे को देखिए।' इसके साथ ही नीतीश ने थ्री सी का फॉर्मूला भी दिया। उन्होंने कहा, 'हम कभी भी क्राइम (अपराध), करप्शन (भ्रष्टाचार) और कम्युनलिज्म (सांप्रदायिकता) से समझौता नहीं करेंगे। काम करते जाइए, काम की प्रतिबद्धता है और हम काम करते रहेंगे। हम न्याय के साथ विकास को लेकर आगे बढ़ रहे हैं।'

'नीरवों' को पकड़ने चली मोदी सरकार को यह भी नहीं पता, 'पांच सालों में कितने पासपोर्ट जारी हुए'

बिहार में सीटों की लड़ाई और तेज

पिछले आम चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 40 में से 23 सीटें जीती थीं, लेकिन उपचुनावों और विधानसभा चुनाव में बीजेपी को करारे झटके लगे थे। ऐसे में सीटों के बंटवारे पर जेडीयू और बीजेपी दोनों का दावा मजबूत है। लेकिन मंगलवार को आए एक बयान में बिहार बीजेपी के एक नेता ने दावा किया है कि राज्य में बीजेपी 22 लोकसभा सीटों पर फिर से चुनाव लड़ेगी। गौरतलब है कि फिलहाल बीजेपी के साथ जो पार्टियां हैं उनमें से पिछले लोकसभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी ने छह, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने तीन और जेडीयू ने दो सीटों पर जीत दर्ज की थी। अपने-अपने स्तर पर सभी मजबूत हैं ऐसे में सीटों की लड़ाई भी लंबी चलने की संभावना है।

परमाणु हथियारों पर सीपरी रिपोर्टः भारत से आगे पाकिस्तान, चीन दोगुना; फिर भी चिंता नहीं

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned