फारूक-उमर की रिहाई पर महबूबा का तंज, महिलाओं से ज्यादा डरती है मोदी सरकार

  • Mehbooba Mufti ने Modi govt पर साधा निशाना
  • Farooq और Omar Abdullah की रिहाई के बाद किया ट्वीट
  • महिलाओं से ज्यादा डरती है मोदी सरकार

Dhiraj Kumar Sharma

24 Mar 2020, 03:37 PM IST

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir ) में धारा 370 ( Article 370 ) हटाने के फैसले के बाद से ही नजरबंद किए गए कई दिग्गज नेताओं की रिहाई की जा चुकी है। इन दौरान तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला ( Farooq Abdullah ), उमर अब्दुल्लाह ( Omar Abdullah ) और महबूबा मुफ्ती को भी नजर बंद किया गया था।

हालांकि नजरबंदी के 7 महीने बाद फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला को तो रिहा कर दिया गया है, लेकिन अब तक पीडीपी नेता और पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती को रिहाई नहीं दी गई है।

इस बीच अपनी रिहाई को लेकर महबूबा मुफ्ती का बड़ा बयान सामने आया है। महबूबा मुफ्ती मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि मोदी सरकार महिलाओं से डरती है।

कोरोनावायरस के खतरे के बीच डॉक्टर पीएम मोदी को लिखा खुला खत, बताया जान को खतरा

देश में कोरोना वायरस की महामारी के बीच 24 मार्च को ही उमर अब्दुल्ला को रिहा किया गया है। उमर को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के ऐलान से ठीक पहले देर रात को हिरासत में लिया गया था। इसके बाद उन पब्लिक सेफ्टी एक्ट भी लगा दिया गया था।

यानी वो पिछले सात महीने से ज्यादा वक्त से नजरबंद थे।

उमर की बहन सारा अब्दुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में रिहाई के लिए याचिका लगाई थी। कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से पूछा था कि वो बताएं रिहा कर रहे हैं या नहीं, वरना हम इस पर सुनवाई करेंगे। सुनवाई से पहले ही उमर को रिहा कर दिया गया।

उमर अब्दुल्ला की रिहाई के बाद महबूबा मुफ्ती के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है। इस ट्वीट में उन्होंने लिखा है कि अच्छा लगा वो (उमर अब्दुल्ला) रिहा हो रहे हैं।

उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए लिखा कि नारी शक्ति और महिला उत्थान की बात तो होती है, लेकिन लगता है ये सरकार सबसे ज्यादा महिलाओं से ही घबराती है।

इससे पहले महबूबा मुफ्ती की बेटी ने हाल ही में जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल को पत्र लिखकर अपनी मां की रिहाई की मांग की थी।

इल्तिजा मुफ्ती ने अपने पत्र में लिखा है कि एक तरफ जहां पूरा देश कोरोना वायरस से जूझ रहा है और भारत अगली स्टेज में जा रहा है, ऐसे में मेरी मां समेत उन तमाम लोगों को रिहा किया जाए जिन्हें बंद किया गया है।

धीरज शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned