केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव की आदिवासियों को सलाह, बनना है तो विजय माल्या जैसे स्मार्ट बनो

केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव की आदिवासियों को सलाह, बनना है तो विजय माल्या जैसे स्मार्ट बनो

Mohit sharma | Publish: Jul, 14 2018 07:53:32 AM (IST) | Updated: Jul, 14 2018 11:16:26 AM (IST) राजनीति

केंद्रीय मंत्री जुएल उरांव ने आदिवासियों को सफलता मूल मंत्र देते हुए शराब कारोबारी विजय माल्या की मिसाल पेश कर दी।

हैदराबाद। मोदी सरकार के एक मंत्री ने भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को लेकर बड़ा बयान दिया है। मंत्री ने लोगों को विजय माल्या से प्रेरणा लेने को कहा है। दरअसल, यह बयान केंद्र सरकार में जनजातीय मामलों के मंत्री जुएल उरांव की ओर से आया है। जुएल उरांव शुक्रवार को एक कार्यक्रम 'राष्ट्रीय जनजातीय उद्यमी सम्मेलन' में आदिवासियों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान वह लोगों को स्मार्ट वर्क और उद्यमिता के लिए प्रोत्साहित कर रहे थे।

पूर्व उपराष्ट्रपति अंसारी का सवाल: देश में विक्टोरिया मेमोरियल तो जिन्ना की तस्वीर क्यों नहीं?

विजय माल्या की से प्रेरणा

कार्यक्रम में जुएल उरांव ने आदिवासियों को सफलता मूल मंत्र देते हुए शराब कारोबारी विजय माल्या की मिसाल पेश कर दी। मंत्री ने कहा कि विजय माल्या गड़बड़ियों में फंसने से पहले अपने बिजनेस को सफल बनाया था। इसलिए आपको उसकी उस सफलता से प्रेरणा लेनी चाहिए। इस दौरान उन्होंने कहा कि अब सब लोग विजय माल्या का गाली-गलौज करते है, लेकिन वास्तव में वह एक स्मार्ट व्यक्ति है। विजय माल्या ने सफलता पाने के लिए पहले बुद्धिजीवियों को अपने साथ जोड़ा, फिर बैंको और नेताओं को। उन्होंने कहा कि ऐसा स्मार्ट बनने से आपको भी कौन रोक सकता है? उरांव ने यहां तक कहा दिया कि आदिवासियों को किसने सिस्टम पर प्रभाव दिखााने से रोका है। किसने आपको कहा है कि आप बैंकों को प्रभावित मत करो?

कश्मीर: पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती की धमकी, पीडीपी को तोड़ा तो पैदा हो जाएंगे कई सलाउद्दीन

आदिवासी होने के फायदे भी

मंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद आदिवासियों को बताया कि आदिवासी होने के केवल नुकसान हीं नहीं हैं, इसके अपने फायदे भी हैं। इसका सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि आदिवासियों को एजुकेशनल इंस्टीट्यूट और सरकारी नौकरियों में रिजर्वेशन की सुविधा प्रदान की गई है, आप इसका लाभ उठाकर आगे बढ़ सकते हो।

 

Ad Block is Banned