भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में जमकर गरजे पीएम मोदी: देश की पाई-पाई राष्ट्र निर्माण में लगी, सवर्णों को आरक्षण जरूरी था

भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में जमकर गरजे पीएम मोदी: देश की पाई-पाई राष्ट्र निर्माण में लगी, सवर्णों को आरक्षण जरूरी था

Kaushlendra Pathak | Publish: Jan, 12 2019 01:57:47 PM (IST) | Updated: Jan, 12 2019 03:31:32 PM (IST) राजनीति

भाजपा के राष्ट्रीय अधिवेशन में पीएम मोदी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे हैं।

नई दिल्ली। भाजपा राष्ट्रीय अधिवेशन का आज दूसरा दिन है। इस अधिवेशना के बहाने पार्टी ने अगामी लोकसभा चुनाव का शंखनाद कर दिया है। दूसरे दिन प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह दो सांसदों वाली पार्टी है, जिसने आज विशाल रूप धारण कर लिया है। उन्होंने कहा कि इस संगठन की शक्ति में जन-जन का विश्वास है।

विपक्ष पर मोदी का हमला

मोदी ने आज देश के 16 राज्यों में भाजपा की सरकार है। मोदी ने कहा कि हमार लक्ष्य अटल जी की परिपाटी को मजबूत करना है। मोदी ने कहा कि अगल अटली जी पीएम होते तो देश की तस्वीर कुछ और होती। वहीं, विपक्ष पर हमला करते हुए पीएम ने कहा कि पुरानी सराकर ने केवल घोटाला ही किया। लेकिन, हमारी सरकार के खिलाफ भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है। उन्होंने कहा कि देश को पटरी पर लाने का काम भाजपा सरकार ने किया है। देश का पाई-पाई राष्ट्र निर्माण में लगाया गया है। उन्होंने कहा कि देश ईमानदारी पर चल रहा है।

सवर्णों को आरक्षण जरूरी था- मोदी

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि जिन्हें पहले से आरक्षण मिल रहा था, उनका हक छीने बिना 10 प्रतिशत के आरक्षण की व्‍यवस्‍था सवर्णों के लिए की है। ये करने से सब कुछ ठीक हो जाएगा, ये मैंने न कभी कहा था न कहूंगा लेकिन ये करना जरूरी था। उन्होंने कहा कि किसी के हक को कम किए बिना ये नई व्यसव्था की गई है, इसके बारे में कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं। हमें उनकी कोशिश को भी नाकाम करना है।

पटेल पहले प्रधानमंत्री होते तो परिणाम कुछ और होता- मोदी

वहीं, अपनी सरकार की उपलब्धि गिनाते हुए मोदी ने कहा कि हम एक ऐसी सरकार चला रहे हैं जिस पर साढ़े चार साल के अंदर एक भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा है। अगर देश में साल 2004 के चुनाव के बाद कांग्रेस के राज में 10 साल विकास का काम होता भ्रष्टाचार नहीं हुआ होता तो देश की तस्वीर आज कुछ और होती। उन्होंने कहा कि अगर देश के पहले प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल होते तो देश कहीं और होता, उसी तरह 2004 के बाद अगर देश के प्रधानमंत्री अटल जी होते तो देश का विकास आज कहीं और पहुंच गया होता। मोदी ने कहा कि आज देश की जनता को विश्वास है कि वो जो टैक्स के रूप में पैसा दे रही है उसका इस्तेमाल विकास के लिए हो रहा है। हमनें यही विश्वास लोगों के अंदर जगाया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned