पीडीपी नेता का दावा: 14 विधायक पार्टी छोड़ने की तैयारी में, बीजेपी खेमे में खुशी की लहर

पीडीपी के नेता आबिद अंसारी ने ये दावा किया है कि पार्टी के 14 विधायक इस समय महबूबा मुफ्ती से अलग होने के लिए तैयार हैं।

By: Kapil Tiwari

Published: 10 Jul 2018, 02:29 PM IST

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के अंदर बगावत की आवाज और तेज हो गई है। राज्य की सियासत में हालिया स्थिति ये है कि पीडीपी के नेता और विधायर अब खुलेआम बगावत पर उतर आए हैं और ऐसे में महबूबा मुफ्ती की पार्टी पार्टी के भविष्य पर अब खतरा मंडरा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बगावत दिखा रहे नेता पार्टी नेतृत्व पर परिवार को बढ़ावा देने का आरोप लगा रहा हैं। पीडीपी के अंदर बढ़ रही मुश्किलों से कहीं न कहीं भारतीय जनता पार्टी के खेमे में खुशी की लहर है।

पीडीपी के 14 विधायक पार्टी छोड़ने की तैयारी में
ऐसा माना जा रहा है कि पीडीपी में 14 विधायक पार्टी छोड़ने की तैयारी में हैं। जादीबल से पीडीपी के नाराज नेता आबिद अंसारी ने दावा किया है कि 14 विधायक पार्टी छोड़ने के लिए तैयार हैं। आबिद अंसारी का ये दावा पीडीपी के लिए एक बड़ा झटका है तो वहीं बीजेपी खेमे के लिए ये खुशखबरी से कम नहीं है। आपको बता दें कि शिया नेता इमरान अंसारी रजा और अंसारी ने पिछले हफ्ते पीडीपी छोड़ने का ऐलान किया था। दरअसल, महबूबा ने अपने भाई तसद्दुक सिद्दीकी को पर्यटन मंत्री बना दिया था और मामा सरताज मदनी को भ्रष्टाचार के आरोपों के बावजूद कई अधिकार दिए थे। पीडीपी में कई नेता इसी बात से नाराज हैं।

महबूबा मुफ्ती लगातार कर रही हैं मनाने की कोशिश
हालांकि महबूबा मुफ्ती पार्टी में नाराज चल रहे विधायकों को मनाने की कोशिश जरूर कर रही हैं, लेकिन अभी तक कामयाबी हाथ नहीं लगी है। दरअसल, महबूबा मुफ्ती ने पिछले हफ्ते ही कई विधायकों और पार्टी नेताओं के साथ एक-एक कर मुलाकात की था। पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी के वरिष्ठ नेताओं जैसे एआर वीरी, जीएन लोन, मोहम्मद खलील बंद, जहूर मीर, एमवाई भट, नूर मोहम्मद भट, यावर दिलावर मीर और एजाज अहमद मीर ने मुफ्ती को समर्थन का भरोसा दिलाया है।

परिवार के लोगों को तवज्जों देने का लगा है आरोप
इन सबके बीच महबूबा मुफ्ती की आलोचना करने वाले विधायकों और नेताओं की लिस्ट लंबी है। बारामुला से विधायक जाविद हुसैन बेग ने महबूबा मुफ्ती पर राज्य में घराने की राज स्थापित करने का आरोप लगाया था। उन्होंने हुए पार्टी छोड़ने का फैसला अपने रिश्तेदार और सांसद मुजफ्फर हुसैन बेग पर छोड़ दिया है। गुलमर्ग विधायक मोहम्मद अब्बास वानी ने भी परिवारवाद और भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ने का ऐलान किया था।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned