जेडीयू में शामिल हुए पीके: केसी त्‍यागी बोले, पार्टी में स्‍वागत है

जेडीयू में शामिल हुए पीके: केसी त्‍यागी बोले, पार्टी में स्‍वागत है

Dhirendra Mishra | Publish: Sep, 16 2018 11:39:41 AM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 11:39:42 AM (IST) राजनीति

देश के चर्चित चुनावी रणनीतिकार ने की जेडीयू से राजनीतिक करिअर की शुरुआत की।

नई दिल्‍ली। देश के चर्चित चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर आज जेडीयू में शामिल हो गए। इससे पहले उन्‍होंने अपने टि्वटर हैंडल से इस बात की जानकारी दी थी। जनता दल यूनाईटेड (जेडीयू) के नेता केसी त्यागी ने पार्टी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की पार्टी में ज्‍वाइनिंग पर कहा है कि हम उनका खुले दिल से स्वागत करते हैं। बता दें कि लोकसभा चुनावों की रणनीतिक तैयारियों को लेकर आज जेडीयू की कार्यकारिणी बैठक है। इस बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शामिल होंगे। बैठक से पहले उन्‍होंने पार्टी की सदस्‍यता ग्रहण की है।

टि्वटर हैंडल से दी जानकारी
इससे पहले प्रशांत किशोर ने खुद अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस बात की जानकारी दी है। उनके टि्वटर पर लिखा है, बिहार से अपनी नए सफर के लिए उत्साहित हूं। पीके ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का हाथ थामने का फैसला लेकर सबको चौका दिया है। पार्टी की बैठक से पहले डन्‍होंने आज पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। अनुमान भी यही लगाया जा रहा था कि वो पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक से पहले जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार के सामने पार्टी की सदस्यता लेंगे।

सीटों का बंटवारा पहली चुनौती
आपको बता दें कि पीके की चुनावी रणनीति का ही चमत्‍कार था कि महागठबंधन ने बिहार में राजद के साथ मिलकर पीएम मोदी की हवा को पहली बार चुनौती दिया था। उनकी रणनीति की वजह से 2015 में भाजपा को जेडीयू-राजद नेतृत्‍व वाली महागठबंधन ने करारी शिकस्‍त दी थी। इसके एवज में चुनाव जीतने के बाद नीतीश कुमार ने उन्‍हें कैबिनेट मंत्री के समान ओहदे से नवाजा था। हालांकि एनडीए में शामिल होने के बाद वह नीतीश कुमार से अलग हो गए थे, लेकिन आपसी तालमेल में बाद आज वो जेडीयू की सदस्‍यता हासिल कर सकते हैं। ऐसा हुआ तो अब उनके सामने 2019 को ध्यान में रखकर सबसे पहले भाजपा के साथ मिलकर सीट बंटवारा कराना पहली चुनौती होगी। उसके बाद लोकसभा चुनाव में एनडीए गठबंधन की जीत को सुनिश्चित करना उससे भी बड़ी चुनौती होंगी।

कैंपेन न करने की कही थी बात
41 साल के प्रशांत किशोर ने हैदराबाद के इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस (आईएसबी) के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि वह किसी भी पार्टी के लिए कैंपेन नहीं करेंगे। न ही किसी पार्टी के साथ जुड़ने जा रहे हैं। लेकिन उन्‍होंने सियासी राजनीति के मैदान में उतरने का फैसला लिया है अपने राजनीतिक करिअर की शुरुआत जेडीयू के साथ मिलकर करने जा रहे हैं।

Ad Block is Banned