TMC का दामन थाम सकते हैं PK, अटकलों का बाजार गर्म

  • जेडीयू ( JDU ) ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ( Prashant Kishor ) को बाहर का रास्ता दिखाया
  • पीके ( PK ) जल्द थाम सकते हैं टीएमसी ( TMC ) का दामन

Kaushlendra Pathak

30 Jan 2020, 12:52 PM IST

नई दिल्ली। चुनावी रणनीतिकार के नाम से मशहूर प्रशांत किशोर ( Prashant Kishor ) के कारण बिहार ( Bihar ) में सियासत गरमा गई है। जेडीयू ( JDU ) से निष्कासित किए जाने के बाद से पीके ( PK ) को लेकर नई राजनीति गरमा गई है। सियासी गलियारे में इसकी चर्चा तेज हो गई है कि प्रशांत किशोर जल्द ही तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) में शामिल हो सकते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जेडीयू से निकाले जाने के बाद टीएमसी ने प्रशांत किशोर से संपर्क करने की कोशिश की है। हालांकि, अभी तक पीके की ओर से कोई जवाब नहीं मिला है। वहीं, इस मामले में जब कुछ टीएमसी के नेताओं से बात की गई तो उन्होंने इस तरह के किसी घटनाक्रम की पुष्टि नहीं की, लेकिन आने वाले समय में इस तरह की संभावनाओं को खारिज नहीं किया।

तृणमूल कांग्रेस के लिए चुनावी रणनीतिकार की भूमिका निभा रहे प्रशांत किशोर से संपर्क करने की कोशिशें की गई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( Mamta Banarjee ) की तरह ही प्रशांत किशोर भी नागरिकता संशोधन कानून, राष्ट्रीय नागरिक पंजी और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर की आलोचना करते रहे हैं।

रिपोर्ट्स के अनुसाकर, टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी के साथ प्रशांत किशोर के बहुत अच्छे संबंध हैं। तृणमूल कांग्रेस के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि चुनावी रणनीतिकार के तौर पर प्रशांत किशोर ने पार्टी के लिए बहुत अच्छा काम किया है। अब वह तृणमूल कांग्रेस से जुड़ेंगे या नहीं, इस बारे में वह और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व फैसला करेंगे। तृणमूल कांग्रेस के एक अन्य नेता का कहना है कि अगर किशोर पार्टी से जुड़ना चाहें तो उनका खुले दिल से स्वागत होगा, क्योंकि उनके जैसा रणनीतिकार 2021 के विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी से जुड़े, यह उपलब्धि होगी। गौरतलब है कि CAA और NRC को लेकर प्रशांत किशोर और ममता बनर्जी ने विरोध जताया है।

इधर, पीके को जेडीयू से निकालने जाने पर बीजेपी ने नीतीश कुमार की तारीफ की है। बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता डॉ निखिल आनंद ने कहा कि अपनी ही पार्टी अध्यक्ष पर सवाल उठाने वाले बड़बोले इन दोनों नेताओं को जदयू ने बाहर निकाल कर अच्छा किया है। बुधवार को जारी बयान में उन्होंने पीके पर झूठ और प्रोपेगेंडा फैलाने का आरोप लगाया। अब देखना यह है कि पीके टीएमसी के साथ जाते हैं या फिर कोई और रणनीति बनती है।

CAA
Show More
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned