ममता-PK की मुलाकात से गरमाई सियासत, JDU ने कहा- नीतीश की इजाजत बिना संभव नहीं

ममता-PK की मुलाकात से गरमाई सियासत, JDU ने कहा- नीतीश की इजाजत बिना संभव नहीं

Kaushlendra Pathak | Updated: 06 Jun 2019, 09:17:46 PM (IST) राजनीति

  • दो घंटे तक चली प्रशांत किशोर और ममता बनर्जी की मुलाकात
  • विधानसभा चुनाव में TMC के लिए काम कर सकते हैं PK
  • JDU के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के बीच गुरुवार को कोलकाता में मुलाकात हुई। इस मुलाकात से अचानक सियासी हलचल तेज हो गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चुनावी रणनीतिकार PK अब ममता बनर्जी के लिए काम करेंगे।

पढ़ें- पीएम नरेंद्र मोदी ने बनाई 8 कैबिनेट कमेटियां, अमित शाह सब में और 2 में राजनाथ

 

विधानसभा चुनाव में टीएमसी के लिए काम कर सकते हैं पीके

रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रशांत किशोर अगले महीने से तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) के लिए काम कर सकते हैं। ममता बनर्जी और प्रशांत किशोर के बीच करीब दो घंटों तक मुलाकात चली। ऐसा माना जा रहा है कि अगामी विधानसभा को लेकर दोनों के बीच चर्चाएं हुईं हैं और पीके विधानसभा चुनाव में टीएमसी की नैया पार लगाएंगे। हालांकि, इस मुलाकात को लेकर दोनों की ओर से अब तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। चर्चा यह भी है कि ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने दोनों के बीच मुलाकात कराई है।

पढ़ें- फिर सीएम अमरिंदर के जाल में तो नहीं फंसे सिद्धू, बैठक का बहिष्कार कर प्रेसवार्ता में कह दी बड़ी बात

जेडीयू की तीखी प्रतिक्रिया

वहीं, प्रशांत किशोर और ममता बनर्जी के बीच हुई मुलाकात पर जेडीयू ने भी प्रतिक्रिया दी है। पार्टी प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि प्रशांत किशोर पार्टी के जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। ऐसे में इस तरह की कोई भी बात बिना राष्ट्रीय अध्यक्ष की इजाजत के यह संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि वैसे जेडीयू को इस मुलाकात के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं है।

उन्होंने कहा कि कहा कि व्यक्तिगत तौर पर कोई भी किसी को सलाह दे सकता है, लेकिन पार्टी के पद पर रहते हुए ये संभव नहीं है। जेडीयू प्रवक्ता का कहना हैकि अगर ऐसा होता है तो इसके लिए पार्टी की कार्यसमिति और खुद राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार आगे तय करेंगे।

 

pk

जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं पीके

इस समय प्रशांत किशोर जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। हालांकि, लोकसभा चुनाव में पीके पूरी तरह से गायब दिखे। दरअसल, पीके को लेकर जेडीयू के अंदर राजनीति शुरू हो गई थी और नीतीश कुमार तक ने उन्हें नसीहत दे डाली थी। लिहाजा, पीके ने चुनाव से खुद को साइड कर लिया था।

पढ़ें- विदेश मंत्रालय का बयान, SCO समिट में नहीं मिलेंगे प्रधानमंत्री मोदी और पाक PM इमरान खान

jdu

जगनमोहन रेड्डी के लिए पीके ने किया था काम

आंध्र प्रदेश में जगन मोहन रेड्डी को विधानसभा और लोकसभा चुनाव में जबरदस्त जीत दिलाने के पीछे प्रशांत किशोर का ही दिमाग था। विधानसभा चुनाव में वाईएसआर कांग्रेस को प्रचंड जीत मिली है।

पढ़ें- अमित शाह से मिले सुखबीर बादल, ब्‍लू स्‍टार पर जांच की मांग की

 

mamta

देखना यह होगा कि ममता के साथ मिलकर पीके बंगाल में क्या रंग लाते है? क्योंकि, बंगाल में बीजेपी और टीएमसी के बीच जंग छिड़ी हुई है। लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 18 तो टीएमसी ने 22 सीटों पर जीत दर्ज की है। सवाल यह भी उठता है कि क्या पीके जेडीयू में रहते हुए ऐसा करेंगे या फिर पाला बदलने की तैयारी कर रहे हैं? क्योंकि, जेडीयू एनडीए का हिस्सा है और बंगाल को लेकर पिछले कुछ समय से सियासत बेहद ही गर्म है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned