महाराष्ट्र कांग्रेस में टूटः राधाकृष्ण विखे पाटिल ने छोड़ी पार्टी, जल्द भाजपा में होंगे शामिल!

महाराष्ट्र कांग्रेस में टूटः राधाकृष्ण विखे पाटिल ने छोड़ी पार्टी, जल्द भाजपा में होंगे शामिल!

Dhiraj Kumar Sharma | Updated: 04 Jun 2019, 04:01:30 PM (IST) राजनीति

  • महाराष्ट्र में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका
  • वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने छोड़ा कांग्रेस का हाथ
  • मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से की मुलाकात
  • जल्द भाजपा में शामिल होने की लग रही अटकलें

नई दिल्ली। कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद से ही पार्टी में लगातार मंथन का दौर चल रहा है। पार्टी पर जहां अपने दो राज्य बचाने की चुनौती है तो दूसरी तरफ अन्य राज्यों से विधायकों का पार्टी छोड़कर जाना भी चिंता का कारण बनता जा रहा है। ताजा मामला महाराष्ट्र का है जहां कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। कांग्रेस नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल और अब्दुल सत्तार ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है। यही नहीं जल्द ही ये भाजपा में भी शामिल हो सकते हैं।


कैबिनेट विस्तार से पहले शामिल होने के संकेत
विखे पाटिल और अब्दुल सत्तार के कांग्रेस से जाने के बाद ही लगातार अटकलें चल रही हैं कि ये दोनों नेता जल्द ही भाजपा का दामन थामेंगे। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र कैबिनेट विस्तार से पहले इन नेताओं की भाजपा में आधिकारिक तौर पर एंट्री हो जाएगी।

ये भी पढ़ेंः पीछा नहीं छोड़ रहा टीएमसी का वायरस, बंगाल भाजपा में शुरू हुई बगावत

पार्टी छोड़ने पर ये बोले विखे
पार्टी से इस्तीफा देने के बाद राधाकृष्ण विखे पाटिल ने कहा कि 'मैंने लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी के लिए प्रचार भी नहीं किया था। मुझे हाईकमान पर संदेह नहीं है। उन्होंने मुझे विपक्ष का नेता बनाकर अच्छा मौका दिया था। मैंने अच्छा काम करने की कोशिश भी की, लेकिन हालात ने मुझे इस्तीफा देने पर मजबूर किया है।' आपको बता दें कि पाटिल राज्य में कांग्रेस विधायक दल के नेता पद से पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं।

 

ये बोले सत्तार

अब्दुल सत्तार ने कहा कि कांग्रेस के काम करने की तरीके से नेता संतुष्ट नहीं हैं। यही वजह है कि पार्टी को छोड़ा जा रहा है। 8 से 10 विधायक भाजपा के संपर्क में हैं और जल्द ही पार्टी में शामिल भी हो सकते हैं।

 

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात
सूत्रों की मानें तो राधाकृष्ण विखे पाटिल मंगलवार को ही मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मिले हैं। यानी इस्तीफे के तुरंत बाद उन्होंने महाराष्ट्र सीएम से खास मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद ही कयास लगने तेज हो गए हैं कि वे जल्द से जल्द भाजपा में शामिल हो सकते हैं।


ऐसे बढ़े भाजपा की ओर कदम
दरअसल विखे के भाजपा में शामिल होने की स्क्रिप्ट अप्रैल माह से ही लिखनी शुरू हो गई थी। 25 अप्रैल को विखे ने महाराष्ट्र विधानसभा के नेता विपक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। खास बात यह है कि पार्टी ने उनका इस्तीफा उस दौरान मंजूर भी कर दिया था। उधर विखे पाटिल के बेटे सुजय विखे की नजदीकियां देवेंद्र फडणवीस से बढ़ना शुरू हो गई थीं और इसी के चलते उन्होंने भाजपा जॉइन कर ली। बस यहीं से विखे पाटिल के भी भाजपा में जाने के संकेत मिलना शुरू हो गए थे।

 

radhakrishna

तीन दिन पहले भी अहम मुलाकात
दरअसल विखे पाटिल और सीएम फडणवीस के बीच ये पहली मुलाकात नहीं थी। सूत्रों की माने तो तीन दिन पहले ही दोनों के बीच अमरावती में मुलाकात हुई थी। दोनों नेता एक शादी समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे और आगामी कदम पर फोकस चर्चा की।

मंत्री बनाए जाने की चर्चा
विधायक अब्‍दुल सत्‍तार ने बताया कि उन्हें मंत्री बनाने को लेकर चर्चा चल रही है। हालांकि मिल रही जानकारी के मुताबिक जयकुमार गोरे, कालीदास कोलंबकर, खुद अब्‍दुल सत्‍तार और विखे पाटिल इन सभी नामों पर विचार किया जा रहा है।

अशोक चौहान से नाराज
आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही अब्दुल सत्तार ने कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौहान को लेकर बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि जिस नेता की दिल्ली में बात नहीं सुनी जाती है, उसकी बात भला मैं कैसे सुनूं। सत्तार ने कहा था कि 36 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया पर मुझे न्याय मिलने की टिस है। जिसके बाद मै जनता के दरबार में जाकर न्याय मांगने वाला हूं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned