अविश्‍वास प्रस्‍ताव: राहुल गांधी को मोदी सरकार ने दिया बोलने का भरपूर समय, अब उनके पास पीएम को बेपर्दा करने की चुनौती

देश भर के लोगों की नजर लोकसभा में राहुल गांधी के भाषण पर टिकी हैं।

By: Dhirendra

Published: 20 Jul 2018, 11:15 AM IST

नई दिल्‍ली। तीन महीना पहले कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार से संसद में 15 मिनट का समय बोलने के लिए मांगा था। उन्‍होंने कहा था कि पीएम मोदी हमेशा बोलते रहते हैं। अगर उनको केवल 15 मिनट मिल जाए तो वो केंद्र सरकार को बेपर्दा कर देंगे। आज राहुल गांधी को मोदी सरकार ने बोलने के लिए 15 मिनट का समय दे दिया है। अब उनके सामने केंद्र सरकार को बेपर्दा करने की चुनौती है। इस बात को लेकर राजनेताओं और मीडिया के साथ लोगों के बीच चर्चा है कि आखिर राहुल आज क्‍या बोलेंगे, जिससे पीएम मोदी बेपर्दा हो जाएंगे।

राहुल के बोलते ही भूकंप आएगा
अविश्वास प्रस्ताव से ठीक पहले भाजपा के बड़बोले संसद व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने राहुल गांधी पर तंज कसते हुए एक ट्वीट किया है कि भूकंप के मजे लेने के लिए तैयार हो जाइए। उनके इस ट्वीट को राहुल गांधी के उस बयान से जोड़कर देखा जा रहा है जिसमें राहुल ने कहा था कि अगर उन्हें संसद में 15 मिनट बोलने दिया जाए तो भूकंप आ जाएगा। इतना ही नहीं आम लोग भी इस बात की आस लगाए बैठे हैं कि राहुल आज कुछ अच्‍छा बोलेंगे और मोदी सरकार की कारगुजारियों को सामने लाएंगे।

राहुल ने क्‍या कहा था..
आपको बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले अप्रैल, 2018 में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में संविधान बचाओ रैली के दौरान इस बात को पुरजोर तरीके से दोहराया था कि उन्हें संसद में बोलने के लिए 15 मिनट का समय दिया जाए तो वे ऐसा भाषण देंगे कि पीएम मोदी खड़े नहीं रह पाएंगे। भाजपा ने राहुल गांधी के इस बयान के लिए खिंचाई की थी। एक मिनट 42 सेकेंड के इस वीडियो को ट्विटर पर शेयर करते हुए भाजपा ने लिखा है कि राहुल जी हम भी चाहते हैं कि आप संसद में बोलें। आखिर हम इस मजे से कैसे वंचित रह सकते हैं। इस वीडियो में मजाकिया अंदाज में संसद में बोलने के दौरान राहुल की जुबान फिसलती दिखाई गई है। कभी राहुल गलती से स्पीकर मैडम कह जाते हैं, जिसके लिए वे फौरन सॉरी बोलते हैं तो कभी राहुल गलती से पेट्रोल पर चर्चा के दौरान पेट्रोल को 35 डॉलर की जगह 35 रुपये प्रति बैरल बोल जाते हैं। एक बार वे मनरेगा को नरेगा बोलते हैं। याद दिलाने पर वे पूरा नाम भी नहीं बोल पाते और कहते हैं कि यह महात्मा गांधी योजना।

pm modi
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned