राहुल गांधी निर्विरोध चुने गए कांग्रेस अध्यक्ष, कांग्रेसियों में भर गया नया जोश

राहुल गांधी कांग्रेस के नए अध्यक्ष बन गए हैं। कांग्रेस पार्टी ने इसकी घोषणा कर दी है। इसके साथ ही कांग्रेस में नया जोश भर गया है।

By: Chandra Prakash

Updated: 11 Dec 2017, 04:39 PM IST

नई दिल्ली। आखिरकार वो वक्त आ ही गया जब कांग्रेस में 'राहुलयुग' शुरु हो गया राहुल गांधी देश की सबसे पुरानी पार्टी के अध्यक्ष नियुक्त कर दिए हैं।। 4 दिसंबर को राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया था। राहुल गांधी के अध्यक्ष बनते पूरे देश में कांग्रेस पार्टी के दफ्तरों में जश्न शुरु हो गया।

 

16 दिसंबर को संभालेंगे पद

कांग्रेस के चुनाव अधिकारी मुल्लाप्पल्ली रामचंद्रन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि राहुल के पक्ष में दाखिल सभी 89 नामांकन वैध हैं। राहुल को कांग्रेस केंद्रीय चुनाव समिति ओर से उन्हें जीत का प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। हांलाकि राहुल गांधी अभी गुजरात चुनाव में व्यस्त हैं इस वजह से वो प्रणाण पत्र लेने अभी नहीं आ सकते हैं। राहुल 16 दिसम्बर को 11 बजे जीत का प्रमाण पत्र लेंगे और इसी दिन पद भी संभालेंगे।


89 लोगों ने दाखिल किया नामांकन
बता दें कि 4 दिसंबर की सुबह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष के पद के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। राहुल ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं कमलनाथ, मोतीलाल वोरा, शीला दीक्षित, अहमद पटेल और अशोक गहलोत की मौजूदगी में नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर किए। राहुल के पक्ष में कुल 89 लोगों ने नांमाकन पत्र दाखिल किया।


सबसे लंबे समय तक अध्यक्ष रहीं सोनिया
राहुल 1998 में पार्टी की अध्यक्ष बनीं अपनी मां सोनिया गांधी का स्थान लिया है। सोनिया सबसे लंबे समय तक कांग्रेस प्रमुख का पद संभाला है। कांग्रेस के सैकड़ों समर्थक पार्टी के शीर्ष पद के नामांकन दाखिल होने से पहले पार्टी कार्यालय में एकत्र हुए। राहुल गांधी जनवरी 2013 में कांग्रेस के उपाध्यक्ष बने थे।


13 साल से सक्रिय राजनीति में राहुल
राहुल गांधी ने राजनीति में 2004 में प्रवेश किया था। उस वक्त वे अमेठी से लोकसभा चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे। बाद में राहुल गांधी को 2007 में कांग्रेस में संगठन महासचिव की जिम्मेदारी सौंपी गई। इस दौरान कांग्रेस 10 साल तक सत्ता में रही, लेकिन राहुल कभी भी मनमोहन सिंह की कैबिनेट में शामिल नहीं रहे और वे पार्टी के मोर्चे से ही राजनीति करते रहे।

Indian National Congress
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned