राजनाथ सिंह ने पेश किया पार्टी का राजनीतिक प्रस्‍ताव, आतंकवाद और नक्‍सलवाद के खात्‍मे का लिया संकल्‍प

राजनाथ सिंह ने पेश किया पार्टी का राजनीतिक प्रस्‍ताव, आतंकवाद और नक्‍सलवाद के खात्‍मे का लिया संकल्‍प

Dhirendra Mishra | Publish: Sep, 09 2018 02:36:54 PM (IST) राजनीति

गैर कानूनी कार्यों लिप्‍ल लोगों के खिलाफ सख्‍त कदम उठाए जाने के बाद से लोग अब देश छोड़कर भागने पर मजबूर हुए हैं।

नई दिल्‍ली। भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के दूसरे दिन केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राजनीतिक प्रस्ताव पेश किया। इस प्रस्‍ताव में 2022 तक देश से जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद और नक्सलवाद खत्म होगा। उन्‍होंने कहा कि इन ज्‍वलंत मुद्दों को लेकर केंद्र सरकार की और से प्रभावी मुहिम पहले से ही जारी है। भ्रष्टाचारियों के खिलाफ जारी कड़ी कार्रवाई की वजह से गैर कानूनी कार्यों लिप्‍ल लोग अब देश छोड़कर भागने पर मजबूर हुए हैं।

घुसपैठिए के लिए देश के कोई जगह नहीं
गृहमंत्री की ओर के पेश भाजपा के राजनीतिक प्रस्‍ताव में राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (एनआरसी) का जिक्र है। प्रस्‍ताव में स्‍पष्‍ट कर दिया गया है कि घुसपैठियों के लिए देश में कोई जगह नहीं है। राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा गया है कि अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के सिख, बौद्ध, क्रिश्चियन, हिंदू शरणार्थी अगर देश में आते हैं तो उनकी मदद की जाएगी। इन लोगों की ओर से आवेदन मिलने पर उन्‍हें शरणार्थी का दर्जा दिया जा सकता है।

कांग्रेस केवल दो राज्‍यों में
राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में कहा गया है कि 2014 से भाजपा ने 15 राज्यों में चुनाव जीते हैं। 22 राज्य में सरकार में है। विपक्ष पांच राज्यों में है। कांग्रेस सिर्फ दो राज्‍यों में सिमट के राह गई है। इसलिए सत्ता पाने के लिए विपक्ष परेशान है। विपक्षी एकता के नाम पर महागठबंधन की कवायद जारी है। वर्तमान में विपक्ष के पास मोदी जैसा कोई नेता नहीं। विपक्ष का एक मात्र लक्ष्य मोदी आगे बढ़ने से रोकना है। भाजपा के राजनीतिक विस्‍तार को अवरुद्ध करना है। यही वजह है कि डेढ साल से जारी महागठबंधन का प्रारूप अभी तक अनैतिक गठबंधन ही बना हुआ है। यह अभी तक औपचारिक गठबंधन के रूप में आकार नहीं ले पाया है।

अर्थव्‍यवस्‍था में अभूतपूर्व सुधार
भाजपा राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में चार वर्ष पहले एक कमजोर, अपारदर्शी और पूंजीवादी अर्थव्यवस्था विरासत में मिली थी। हमारी सरकार ने इसमें मूलभूत सुधार किए और कड़े कदम उठाए हैं। नोटबंदी, जीएसटी ने अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व सुधार किए हैं। पार्टी का कहना है कि थोड़ी सी परेशानियों के बाद अर्थव्यवस्था अब तेजी से बढ़ रही है। जीडीपी में बढ़ोतरी बेहतर उदहरण है। नोटबंदी और जीएसटी जैसी पारदर्शी व्‍यवस्‍था को लागू कर भारत की छवि को दुनिया भर में बेहतर बनाने का काम किया गया है। इससे अर्थव्‍यवस्‍था को मजबूती मिली है। निवेश को बढ़ावा मिला है। इसके दम पर जीडीपी दर बढ़ी है।

आंतरिक सुरक्षा
देश की आंतरिक सुरक्षा के मामले में एनआरसी एक ऐतिहासिक पड़ाव है। भारत में आने वाले अल्पसंख्यक शरणार्थियों के हितों की रक्षा के लिए भी कदम उठाए गए हैं। लेकिन रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठियों को बाहर करेंगे। जम्मू कश्मीर में कड़े कदम उठाने की वजह से आतंकवाद कम हुआ है।

विपक्ष के पास कोई एजेंडा नहीं
राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि विपक्ष के पास कोई एजेंडा या चुनावी रणनीति नहीं है। विपक्षी एकता के नाम पर केवल मोदी रोको अभियान उनका एकमात्र एजेंडा है। ऐसे दलों व उनके नेताओं को लोग अच्छी तरह से जानते हैं। हम 2019 में भी एक बड़ी बहुमत के साथ जीतेंगे।

Ad Block is Banned