अंतरराष्ट्रीय बाजार में गिरावट के बावजूद तेल की कीमतें न घटाना डाका डालने जैसा है: रामदास

अंतरराष्ट्रीय बाजार में गिरावट के बावजूद तेल की कीमतें न घटाना डाका डालने जैसा है: रामदास

Amit Kumar Bajpai | Publish: Nov, 10 2018 05:53:52 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 05:53:53 PM (IST) राजनीति

पीएमके के संस्थापक एस. रामदास ने शनिवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में गिरावट के बावजूद पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें ऊंची रखना डाका डालने जैसा है।

चेन्नई। पीएमके के संस्थापक एस. रामदास ने शनिवार को कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत में गिरावट के बावजूद पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें ऊंची रखना डाका डालने जैसा है। रामदास ने यहां एक बयान में कहा कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 3 अक्टूबर के 77.96 डॉलर प्रति बैरल के स्तर से 22.87 फीसदी घटकर 60.13 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई है।

उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दाम में गिरावट के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आनुपातिक कमी आनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल के दाम में क्रमश: 19.34 रुपये और 18.20 रुपये प्रति लीटर की कटौती होनी चाहिए और इनकी खुदरा कीमतें क्रमश: 67.84 रुपये और 61.37 रुपये प्रति लीटर होनी चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि 1 नवंबर, 2017 को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 60 डॉलर प्रति बैरल थी, जो वर्तमान मूल्य के समान है। रामदास ने कहा कि 1 नवंबर, 2017 को पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतें क्रमश: 71.65 रुपये और 60.79 रुपये प्रति लीटर थीं।

चेन्नई में शनिवार को पेट्रोल 80.90 रुपये प्रति लीटर था, जबकि डीजल का 76.72 रुपये प्रति लीटर। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन आमतौर पर तेल की खुदरा कीमत तय करने का विवरण देता है, लेकिन तेल कंपनी 29 अक्टूबर के बाद इस संबंध में कोई विवरण नहीं दे रही है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned