2019 में बीजेपी की जीत पर संघ को भरोसा नहीं! भागवत बोले- राम मंदिर के लिए कानून चाहिए

एक ओर तो लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी प्रचंड जीत का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी ओर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने हैरान करने वाला जवाब दिया है।

By: Chandra Prakash

Updated: 03 Jan 2019, 04:46 PM IST

नई दिल्ली। 'राम मंदिर पर केंद्र सरकार अध्यादेश नहीं लाएगी' प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस बयान ने मंदिर के लिए अध्यादेश की राह देख रहे लोगों को तगड़ा झटका दिया है। खुद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और बीजेपी के कई नेता भी पीएम के इस बयान से हैरान हैं। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने तो यहां तक कह दिया कि प्रधानमंत्री जो चाहे जो भी कह सकते हैं लेकिन हमारी राम में आस्था है और मंदिर उसी स्थान पर बनना चाहिए। इसके साथ उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव परिणाम को लेकर अनिश्चितता जाहिर कर अंदरखाने खलबली मचा दी है।

राम समय बदलने में समय नहीं लेते: भागवत

नागपुर में एक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद संघ प्रमुख ने पत्रकारों से कहा कि आरएसएस अपने रवैये पर अडिग है कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए कानून पारित किया जाए। उन्होंने संघ महासचिव भैयाजी जोशी के उस बयान का भी समर्थन किया, जो जोशी ने प्रधानमंत्री के इंटरव्यू के बाद दिया था। भागवत ने कहा कि प्रधानमंत्री चाहे जो भी कहें, मेरा इस मुद्दे पर स्टैंड बिल्कुल स्पष्ट है। अयोध्या में सिर्फ राम मंदिर ? ही बनेगा। भगवान राम में हमारी आस्था है। वो समय बदलने में समय नहीं लेते।

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े का बयान, दिनदहाड़े केरल में हुआ हिंदुओं का रेप

2019 में बीजेपी के जीत पर संघ निश्चित नहीं

वहीं लोकसभा चुनाव 2019 के परिणामों पर जब मोहन भागवत से सवाल हुआ तो जवाब हैरान करने वाला मिला। आमतौर पर संघ और बीजेपी के नेता बड़ी निश्चिंतता से कहते हैं कि 2019 में एकबार फिर बीजेपी प्रचंड बहुतम से सत्ता में आएगी। लेकिन संघ प्रमुख का बयान इसके उलट था। सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा है कि वे अगले लोकसभा चुनाव के परिणामों को लेकर निश्चित नहीं हैं।

सोनिया गांधी महिला होने के नाते तीन तलाक बिल का समर्थन करें: रविशंकार प्रसाद

मंदिर निर्माण के लिए कानून पर अड़ा संघ

बता दें कि मंगलवार को संघ महासचिव भैयाजी जोशी ने राम मंदिर को लेकर पीएम मोदी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि आरएसएस अपने रवैये पर अडिग है कि अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए कानून पारित किया जाए। जोशी ने कहा कि उन्हें पीएम के बयान की जानकारी तो नहीं है लेकिन देश में हर कोई चाहता है कि राम मंदिर का निर्माण हो।

मोदी बोले- राम मंदिर के लिए नहीं आएगा अध्यादेश

नए साल के पहले दिन एक साक्षात्कार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर के मुद्दे पर कहा कि राम मंदिर पर हमारी सरकार अध्यादेश नहीं लाएगी। कानूनी प्रक्रिया के बाद ही राम मंदिर पर फैसला किया जाएगा। राम मंदिर को लेकर जब तक कानूनी प्रक्रिया चल रही है तब तक अध्यादेश लाने का विचार नहीं है। मोदी ने कहा कि हमने बीजेपी के घोषणापत्र में कह रखा है कि राम मंदिर का फैसला संविधान के दायरे में ही होगा। राम मंदिर बीजेपी के लिए भावनात्मक मुद्दा है। कांग्रेस को इस मुद्दे पर रोड़े नहीं अटकाने चाहिए और कानूनी प्रक्रिया को अपनी तरह से आगे बढ़ने देना चाहिए।

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

Show More
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned