Sanjay Raut ने फिर कसा कंगना रनौत पर तंज, कहा - हम छोटे लोग, उनके पीछे तो पीएमओ है

  • मुंबई से चंडीगढ़ पहुंचने के बाद कंगना ने अपने ट्विट में लिखा, इस बार वह बच गईं।
  • संजय राउत ने दावा किया है कि मुंबई लॉ ऐंड ऑर्डर मेंटेन करने वाला शहर है।

By: Dhirendra

Updated: 14 Sep 2020, 04:23 PM IST

नई दिल्ली। सुशांत केस को लेकर शिवसेना सांसद संजय राउत ( Sanjay Raut ) और अभिनेत्री कंगना रनौत के बीच जुबानी जंग थमा नहीं है। बशर्ते इस जंग में और तीखापन आ गया है। दरअसल, अभिनेत्री कंगना रनौत के ट्विट के जवाब में संजय राउत ने उन पर एक बार फिर तंज कसा है।

इस बार संजय राउत ने अपने ट्विट में कहा कि हम बहुत छोटे लोग हैं। इतने बड़े महान व्यक्ति कुछ कह रहे हैं तो इसपर बात करना ठीक नहीं हैं। जिसके पीछे प्रधानमंत्री कार्यालय, देश की सरकार खड़ी है, मुझे लगता है उसपर बात करना ठीक नहीं है। इसका केंद्र सरकार जवाब देगी।

लोकसभा की कार्यवाही कल 3 बजे तक के लिए स्थगित, सत्र के पहले दिन 2 बिल हुए पास

इसके साथ ही उन्होंने महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे के बयान कि मेरी खामोशी को मेरी मजबूरी न समझें, पर कहा कि समझने वालों को इशारा काफी होता है।

शिवसेना प्रवक्ता राउत ने अपने ट्विट में इस बात का भी जिक्र किया है कि मुंबई शहर लॉ ऐंड ऑर्डर मेंटेन करने वाला शहर है। इसके बावजूद कोई मुंबई को बदनाम करता है तो इस मामले में केंद्र को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

Parliament Monsoon Session : पक्ष-विपक्ष लोकतंत्र को और मजबूत बनाने में दें योगदान - ओम बिरला

मुंबई के लोगों की नाराजगी पर सोचने की जरूरत

मुंबई में एक नौसेना के पूर्व अधिकारी मदन शर्मा पर हमले से जुड़े सवाल पर राउत ने कहा कि यूपी में तो घर में घुसकर एक कैप्‍टन की हत्‍या हो गई। इसके बावजूद किसी के ऊपर ऐसा हमला नहीं होना चाहिए। इस मामले में आरोपी शिवसैनिकों को तुरंत गिरफ्तार किया गया। मुंबई पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। लोगों का मन क्‍यों भड़का है, ये कोई सोचता नहीं है।

कंगना ने आज अपने ट्विट में क्या कहा?

इससे पहले मुंबई से चंडीगढ़ पहुंचने के बाद अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्विट कर बताया कि इस बार वह मुंबई में बच गईं। आज वो दिन है कि जान बची तो लाखों पाए। चंडीगढ़ पहुंचने के बाद मेरी सिक्योरिटी नाम मात्र रह गई है। लोग ख़ुशी से बधाई दे रहे हैं। लगता है इस बार मैं बच गई।

उन्होंने मुंबई के पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि एक दिन था जब मुंबई में मां के आंचल की शीतलता महसूस होती थी। आज वो दिन है जब जान बची तो लाखों पाए, का अहसास होता है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned