कश्मीर का विशेष दर्जा पवित्र गाय नहीं जिसे छुआ नहीं जा सकताः भाजपा

भाजपा ने जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की ओर से राज्य के विशेष दर्जे और राष्ट्रीय ध्वज पर की गई टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता वीरेंद्र गुप्ता ने जम्मू में कहा कि हम महबूबा के बयान से हैरान और अचंभित हैं।

By: shachindra श्रीवास्तव

Published: 30 Jul 2017, 10:15 AM IST

जम्मू। भाजपा ने जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की ओर से राज्य के विशेष दर्जे और राष्ट्रीय ध्वज पर की गई टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता वीरेंद्र गुप्ता ने जम्मू में कहा कि हम महबूबा के बयान से हैरान और अचंभित हैं। अनुच्छेद 370 को अस्थायी प्रावधान के तौर पर भारतीय संविधान में शामिल किया गया था। अनुच्छेद 35 ए और अनुच्छेद 370 पवित्र गाय नहीं है कि छुआ नहीं जा सकता।

राज्य के लिए हानिकारक है अनुच्छेद 35-ए 
पार्टी पीडीपी के साथ हुए समझौते के तहत राज्य की मौजूदा संवैधानिक स्थिति में बदलाव की मांग नहीं करती है लेकिन यह सच है कि अनुच्छेद 35-ए कानून के किसी अन्य प्रावधान से ज्यादा राज्य के लिए हानिकारक है। गुप्ता ने कहा, राज्य के सामने सबसे बड़ी चुनौती कश्मीरी संस्कृति के सूफी मूल्यों की रक्षा करना है, जिस पर घाटी में अलगाववादी और इस्लामिक कट्टरपंथी हमला कर रहे हैं। उन्होंने कहा, राज्य सरकार और लोगों को अनुच्छेद 35-ए और अनुच्छेद 370 के मुद्दों को उठाने की बजाए इन मानवीय मूल्यों और पहचान की रक्षा की दिशा में प्रयास करने चाहिए। 

...तो राष्ट्रध्वज को थामने वाला घाटी में कोई नहीं होगाः महबूबा
यह कहा था महबूबा ने मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को दिल्ली में हुए एक कार्यक्रम में कहा था कि कुछ लोग संविधान के अनुच्छेद 35 ए को चुनौती दे रहे हैं। मैं, मेरी पार्टी और अन्य पार्टियां जो तमाम जोखिमों के बावजूद जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज हाथों में रखती हैं, मुझे यह कहने में तनिक भी संदेह नहीं है कि अगर राज्य की संवैधानिक स्थिति में बदलाव हुआ तो इस ध्वज को थामने वाला घाटी में कोई नहीं होगा।

राज्य के विशेष दर्जे पर बहस आग से खेलना है: उमर
जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने शनिवार को कहा कि राज्य को अनुच्छेद 370 के तहत मिले विशेष दर्जे पर बहस की मांग कर रहे लोग 'आग से खेल रहे हैं' क्योंकि यह मुद्दा राज्य के भारत में विलय से संबंधित है। उमर ने पूछा, 'क्या विलय पर चर्चा किए बिना आप जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे पर बहस कर सकते हैं? और जवाब में कहा कि आप नहीं कर सकते। ये एक ही सिक्के दो पहलू हैं। विशेष दर्जे के साथ जम्मू-कश्मीर का भारत के साथ विलय हुआ था।' उन्होंने कहा, कश्मीर समस्या का स्थायी समाधान निकालने के लिए पाकिस्तान के साथ सकारात्मक और रचनात्मक संपर्क जरूरी है।

कश्मीर में तिरंगा ऐसे ही लहराता रहेगा जैसे देश के अन्य हिस्सों में: डॉ. जितेंद्र
जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की टिप्पणी को चौंकाने वाला और हास्यास्पद करार देते हुए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि तिरंगा जम्मू-कश्मीर में भी वैसे ही ऊंचा लहराएगा जैसे देश के अन्य हिस्सों में लहराता है। जहां तक हमारा सवाल है, तिरंगा हमारे लिए पवित्र है। तिरंगा हम सबका प्यारा है और प्यारा ही रहेगा। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर देश के किसी अन्य प्रांत की तरह भारत का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि अगर जम्मू-कश्मीर से जुड़ा कोई मुद्दा है तो वह यह है कि पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले राज्य के हिस्से को किस प्रकार हासिल करना है।



Show More
shachindra श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned