बिहार में फिर गर्माई राजनीति, तेजस्वी यादव ने मुकेश साहनी को बताया 'रिचार्ज कूपन'

  • बिहार में चढ़ा सियासी पारा
  • राजद नेता तेजस्वी यादव ने मुकेश साहनी पर कसा तंज
  • ट्रैक्टर के बाद साइकिल से पहुंचे विधानसभा

By: धीरज शर्मा

Published: 26 Feb 2021, 12:50 PM IST

नई दिल्ली। देश भर में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ( Petrol Diesel Price Hike ) ने आम जनता की परेशानी बढ़ा दी है। ऐसे में विपक्ष लगातार महंगाई के मुद्दे पर सरकार को घेर रही है। इसी क्रम में शुक्रवार को बजट सत्र के छठे दिन बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव साइकिल से बिहार विधानसभा पहुंचे। इससे पहले वो ट्रैक्टर से भी विधानसभा पहुंच चुके हैं।

चर्चा में भाग लेते हुए तेजस्वी यादव ( Tejashwi Yadav ) ने सत्ता पक्ष को कठघरे में खड़ा करने के लिए कहानी का सहारा लिया तो अलग अंदाज में शेरो-शायरी भी की।

अंबानी परिवार को बम उड़ाने की धमकी, खत में लिखा- मुंबई भाई , नीता भाभी ये तो अभी ट्रेलर है...

आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद द्वारा पेश किए गए बजट को झूठ का पुलिंदा बताते हुए कहा कि सरकार बजट का आकार बढ़ाने का दावा करती है लेकिन उसका खर्च ही नहीं कर पाती। वहीं तेजस्वी ने मुकेश साहनी को भी रिचार्ज कूपन कह डाला।

नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि, "तू कर ले हिसाब अपने हिसाब से, जनता हिसाब लेगी अपने हिसाब से।" तेजस्वी ने सदन में एनडीए पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी को बजट में बड़ी हिस्सेदारी नहीं मिली है।

बीजेपी के मंत्री भले ही अधिक हैं, लेकिन जेडीयू के मंत्रियों के पास दोगुना से भी ज्यादा बजट है। तेजस्वी के इस कटाक्ष पर पलटवार करने के लिए जैसे ही मुकेश साहनी उठे, तेजस्वी ने अपने आक्रामक रूख से उन्हें भी चुप करा दिया।

तेजस्वी ने मुकेश साहनी को रिचार्ज कूपन कहकर बैठने की सलाह दी। तेजस्वी ने उनपर तंज कसते हुए उन्हें 'रिचार्ज कूपन' बता दिया। उन्होंने कहा कि आप तो खुद रिचार्ज कूपन हैं, आगे रिचार्ज होंगे कि नहीं किसी को पता नहीं।

कोरोना संकट के बीच बन गई एक डोज वाली वैक्सीन, पहले से 66 फीसदी ज्यादा असरदार होने का किया जा रहा दावा

दरअसल तेजस्वी का इशारा मुकेश सहनी की विधान परिषद सदस्यता को लेकर था। साहनी जिस सीट पर विधान परिषद के लिए चुनकर गए हैं, वह उपचुनाव वाली सीट है। तेजस्वी ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जातिगत जनगणना की मांग करते हैं और कहते हैं कि इससे समाज के हर एक जाति का सर्वागीण विकास होगा, लेकिन बजट में स्थिति हास्यास्पद है।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned