तमिलनाडु के बाद बिहार-एमपी ने मिलाया केंद्र के सुर में सुर, Oxygen की कमी पर कही ये बात

तमिलनाडु ने कहा था कि राज्य में ऑक्सीजन की किल्लत से कोई जान नहीं गई। अब मध्य प्रदेश और बिहार ने भी यही दावा किया है कि दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से किसी की जान नहीं गई।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 21 Jul 2021, 03:27 PM IST

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने संसद में बताया कि महामारी कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत हुई है। स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने मंगलवार को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। केंद्र के साथ अब एक-एक कर कई राज्यों ने सुर में सुर मिलते हुए इस पर सहमति जताई है। तमिलनाडु ने बीते दिन कहा था कि उनके राज्य में ऑक्सीजन की किल्लत से कोई जान नहीं गई। अब मध्य प्रदेश और बिहार ने भी यही दावा किया है कि दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से उनके राज्यों में किसी की जान नहीं गई।

केंद्र से पर्याप्त मात्रा में मिली ऑक्सीजन : तमिलनाडु
तमिलनाडु स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्ण ने कहा कि उनके राज्य में कोई मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की जान नहीं गई है। उन्होंने सरकारी और निजी अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन आपूर्ति रखी। ऑक्सीजन सप्लाई के लिए एक अलग से टीम का गठन किया गया था। तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री एम. सुब्रमणियम ने भी कहा यही दावा किया कि उनको केंद्र से पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिली।

यह भी पढ़े :— कोरोना का कहर जारी : नए केसों में 12 हजार का उछाल, 24 घंटे में आंकड़ा 42 हजार के पार

 

बिहार ने भी मिलाया केंद्र के सुर में सुर
बिहार ने भी केंद्र सरकार के सुर में सुर मिलते हुए कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर में जीवन रक्षक गैस की कमी ने किसी जान नहीं ली। बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में हमने दबाव के बावजूद बेहतर प्रबंधन किए। इस मुश्किल घड़ी में केंद्र का सहयोग मिला। जिससे राज्य के पास ऑक्सीजन की मात्रा में इजाफा हुआ है।

 

ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई किसी की मौत: एमपी
वहीं, मध्य प्रदेश के मेडिकल एजुकेशन मिनिस्टर विश्वास सारंग ने भी केंद्र सरकार का समर्थन किया है। सारंग ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में राज्य के पास ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में थी। इस दौरान ऑक्सीजन की कमी से राज्य में किसी की मौत नहीं हुई है। हमने सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन दिया। कांग्रेस लोगों की मदद नहीं करना चाहती। वे सिर्फ संसद में मुद्दे उठाती है।

यह भी पढ़ें:— कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है 'नोरोवायरस' जानिए इसके लक्षण और बचाव के उपाय


पहली लहर के बाद दोगुनी हुई मांग
आपको बता दे कि स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने मंगलवार को बताया था कि बहरहाल, कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की मांग अप्रत्याशित रूप से बढ़ गई थी। महामारी की पहली लहर के दौरान, इस जीवन रक्षक गैस की मांग 3095 मीट्रिक टन थी जो दूसरी लहर के दौरान बढ़ कर करीब 9000 मीट्रिक टन हो गई।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned