मुस्लिम संगठनों को नुसरत जहां का करारा जवाब, खुद को बताया भगवान का स्पेशल चाइल्ड

मुस्लिम संगठनों को नुसरत जहां का करारा जवाब, खुद को बताया भगवान का स्पेशल चाइल्ड

Dhiraj Kumar Sharma | Updated: 11 Oct 2019, 04:38:51 PM (IST) राजनीति

  • टीएमसी सांसद नुसरत जहां का बड़ा बयान
  • सिंदूर खेला को लेकर मुस्लिम संगठनों को दिया जवाब
  • खुद को बताया भगवान की स्पेशल चाइल्ड

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस की सांसद नुसरत जहां अपने बेबाक निर्णयों के लिए जानी जाती हैं। हाल में कोलकाता में दुर्गा पूजा के दौरान सिंदूर खेला कार्यक्रम में हिस्सा लेकर वे मुस्लिम समुदाय के निशाने पर आ गईं थीं। खास बात यह है कि अब नुसरत जहां ने मुस्लिम संगठनों के सवालों का करारा जवाब दिया है।

नुसरत जहां ने कोलकाता के चलता बागान दुर्गापूजा मंडल में सिंदूर खेला कार्यक्रम में हिस्सा लिया। उनके पति निखिल जैन भी इस दौरान उनके साथ मौजूद रहे। दरअसल, नुसरत जहां जब पिछले दिनों दूर्गा पूजा में शामिल हुई थीं तो देवबंद के उलेमा ने उन पर कई सवाल खड़े किए थे।

बौखलाए पाकिस्तान ने कर दिखाया दुस्साहस, देश के इस इलाके में आतंकी हमले....खाली कराए गए अस्पताल और स्कूल...मच गया हंगामा

1565069231-nusrat_jahan_honeymoon_pic.jpg

इत्तेहादे-उलेमा-ए-हिंद के उपाध्यक्ष मुफ्ती असद कासमी ने कहा था कि नुसरत जहां को अपना नाम और धर्म बदल लेना चाहिए। उन्होंने कहा था कि वह अपने कार्यों से इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम कर रही हैं। यही नहीं उन्होंने ये भी कहा था कि वह हिंदू देवताओं के पूजा की पेशकश कर रही हैं।

जबकि इस्लाम केवल अल्लाह की इबादत करने का आदेश देता है।

उन्होंने कहा कि नुसरत जहां ने जो किया है वह गलत है। नुसरत जहां ने धर्म से बाहर भी विवाह किया है।

उन्हें अपना नाम और धर्म बदल लेना चाहिए। ऐसे लोगों की इस्लाम को आवश्यकता नहीं जो मुस्लिम नामों को स्वीकार कर इस्लाम और मुसलमानों को बदनाम करते हैं।

nushrat-jahan-3_201908108390.jpg

चंद्रयान-2 इसरो के पास आई अब तक की सबसे बड़ी जानकारी, चांद पर अब नहीं हो पाएगा लैंडर से संपर्क

नुसरत का करारा जवाब
इसके बाद नुसरत जहां ने सिंदूर खेला में शामिल होकर उनकी बोलती बंद कर दी। सिंदूर खेला में भाग लेने के बाद उन्होंने कहा कि वह भगवान की स्पेशल चाइल्ड हैं, वह हर त्योहार में हिस्सा लेती हैं। नुसरत ने कहा कि वह मानवता और मोहब्बत में विश्वास रखती है। वह काफी खुश हैं और किसी भी विवाद से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है.

दरअसल, सांसद बनने के बाद से ही मौलाना उनसे खफा रहते हैं. जब वह सिंदूर-बिंदी लगाकर संसद में गई थीं तब भी कई धर्मगुरुओं ने उन पर सवाल खड़े किए थे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned