ममता सरकार का केंद्र पर पलटवार, मदरसों के जरिए बंगाल को बदनाम करने की हो रही कोशिश

ममता सरकार का केंद्र पर पलटवार, मदरसों के जरिए बंगाल को बदनाम करने की हो रही कोशिश

Chandra Prakash Chourasia | Updated: 03 Jul 2019, 06:14:56 PM (IST) राजनीति

  • Madrasas पर गृह मंत्रालय की रिपोर्ट से मचा बवाल
  • West Bengal सरकार ने कहा- हमें कोई खत नहीं मिला
  • 'बंगाल की गलत तस्वीर पेश कर रही मोदी सरकार'

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय के उस दावे पर West Bengal Government ने सफाई दी है, जिसमें कहा गया था कि West Bengal के कई मदरसों ( madrasas ) का इस्तेमाल आतंकी संगठन अपने फायदे के लिए कर रहे हैं। Mamata Banerjee सरकार ने कहा कि केंद्र या Ministry of Home Affairs द्वारा राज्य की गलत तस्वीर पेश जा रही है।

TMC सरकार में नहीं बना कोई मदरसा: गयासुद्दीन मुल्ला

बंगाल के अल्पसंख्यक मामलों और मदरसा शिक्षा मंत्री गयासुद्दीन मुल्ला ने MHA की रिपोर्ट पर सरकार का पक्ष रखा है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार में राज्य में एक भी नया मदरसा नहीं बना है।

इसके अलावा बंगाल में 614 मदरसे हैं। जिनका संचानल लेफ्ट सरकार के समय से ही हो रहा है। इन मदरसों में बच्चों को शिक्षा दी जाती है।

नए सांसदों का ट्रेनिंग कैंपः अमित शाह सिखाएंगे प्रभावी MP बनने के गुर

केंद्र ने नहीं भेजी कोई चिट्ठी: बंगाल सरकार

गयासुद्दीन मुल्ला ने गृह मंत्रालय के दावे को खारिज करते हुए कहा कि हमें केंद्र ने अबतक कोई खत नहीं भेजा है। राजनीतिक फायदे के लिए इस तरह का दावा किया गया है। केंद्र सरकार लगातार बंगाल को तोड़ने की कोशिश कर रही है।

भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल होंगी नुसरत जहां, इस्कॉन ने किया आमंत्रित

'बंगाल के मदरसों में आतंकियों की भर्ती'

दरअसल, मंगलवार को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा था बंगाल के बर्दवान और मुर्शिदाबाद के कई मदरसों का इस्तेमाल आतंकी कर रहे हैं। बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश ( Jamaat-ul-Mujahideen Bangladesh ) इसके जरिए कट्टरता फैलाने और संगठन में भर्ती का काम करते हैं।

केंद्र ने कहा था- राज्य सरकार को दी जानकारी

लोकसभा में जवाब देते हुए रेड्डी ने बताया था कि इस संबंध में हर जरुरी जानकारी West Bengal government को लगातार दी जा रही है। उन्होंने बताया कि केंद्र ने 9 जून को ही राज्य सरकार को एक एडवाइजरी जारी की थी। जिसमें कानून और व्यवस्था, शांति बनाए रखने के निर्देश दिए गए थे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned