West Bengal : वाम दलों के बंद का दिखा असर, TMC की बढ़ी मुसीबत

  • वाम संगठनों के नेता कार्यकर्ताओं की पिटाई से नाराज।
  • बंद के समर्थन में कांग्रेस के कार्यकर्ता भी सड़कों पर उतरे।

 

 

 

By: Dhirendra

Updated: 12 Feb 2021, 11:56 AM IST

नई दिल्ली। तीन दिन पहले पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता के नबाना में पार्टी के कार्यकर्ताओं की पिटाई के बाद से वामपंथी संगठनों में आक्रोश चरम पर है। इसके विरोध में आज वामपंथी संगठनों की ओर से पश्चिम बंगाल में 12 घंटे बंद सुबह से जारी है। अब इसका असर दिखने भी लगा है।

वाम दलों और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने उत्तर 24 परगना जिले के बारासात क्षेत्र में जाम लगा दिया है। जाम की वजह से इस क्षेत्र में आवाजाही ठप है। विधानसभा चुनाव से ठीक पहले वामपंथी संगठनों के इस रुख से तृणमूल कांग्रेस की सियासी परेशानी इससे और बढ सकती है।

दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग

बता दें कि कोलकाता में बीते मंगलवार को महिला संगठनों पर पुलिस लाठीचार्ज के विरोध में बुधवार को दार्जिलिंग जिला माकपा की महिला संगठन गणतांत्रिक महिला समिति की ओर से सिलीगुड़ी में धिक्कार रैली निकाली गई थी। इस मौके पर संगठन की जिलाध्यक्ष स्निग्धा हाजरा ने कहा कि महिला संगठन से जुड़ी महिलाएं अपने अधिकारों की मांग को लेकर कोलकाता में प्रदर्शन कर रही थीं। जिन पर पुलिस द्वारा बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज किया गया। पुलिस द्वारा की गई यह कार्रवाई निंदनीय है। उन्होंने कहा कि इस मामले में शामिल पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned