एबीवीपी ने किया ग्रामीण दर्शन का अनुभव

एबीवीपी ने किया ग्रामीण दर्शन का अनुभव

By: Rakesh Verma

Published: 24 May 2018, 10:51 AM IST

एबीवीपी ने किया ग्रामीण दर्शन का अनुभव
प्रतापगढ़. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रकल्प एस एफ डी की ओर से आयोजित अनुभूति 2018 कार्यक्रम के द्वितीय चरण में परिषद के कार्यकर्ताओं ने अरनोद तहसील गौतमेश्वर क्षेत्र में स्थित ताराकुंडी, रातडिया, अचलावदा ओर झांकर आदि गांव में जाकर ग्रामीण परिवेश का प्रत्यक्ष अनुभव किया। जिला संयोजक ईश्वर मीणा ने बताया कि अनुभूति में छात्र-छात्राएं 5 दिन के ग्रामीण जीवन का प्रत्यक्ष अनुभव करेंगे। गांव में जाने वाले 50 से 6 0 विद्यार्थियों का बेस कैंप बनेगा जिसमें प्रत्येक सुबह से 10 से 15 विद्यार्थियों का एक ग्रुप रोजाना दो गांव में जाएगा और यह ग्रुप तीन से चार की टोली में घरों में जाएगा। अनुभूति में ग्रामीण दैनिक जीवन का अध्ययनएवहां का इतिहास, संस्कृति, परंपराओं और विशेषताओं को समझने का प्रयास करेंगे। अनुभूति में छात्राओं को अलग से शिविर की व्यवस्था होगी अनुभूति कार्यक्रम में भाग लेने वाले सभी छात्र-छात्राओं को प्रमाण पत्र दिए जाएंगे। कार्यकर्ताओं ने ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा, कृषि, परिवहन के साधन, पशुपालन, जल स्त्रोत, कुपोषण, नशाखोरी, कन्या भु्रण हत्या, बाल मजदूरी, बाल विवाह, दहेज प्रथा, स्वच्छता, जनजातीय क्षेत्रों की समस्याएं, महिलाओं की स्थिति और सरकारी योजनाएं आदि बिंदुओं पर ग्रामीणों से चर्चा की तथा उसका अनुभव किया। इस दौरान जिला समिति सदस्य सुरज कुमावत, जिला सह संयोजक मोहित बेरागी, अरुण शमा, प्रांत कार्यकारिणी सदस्य प्रतीक शर्मा, पीजी कॉलेज इकाई अध्यक्ष ईश्वर डामोर, अक्षत पालीवाल आदि अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे।

सभापति के साथ ट्रेन के सैकंड क्लास में हुई थी लूट और मारपीट
======================================
महिला कैदियों को भी मिलेगा दूरस्थ शिक्षा का लाभ
प्रतापगढ़ जिला कारागृह प्रतापगढ़ में निरूद्ध महिला कैदी भी दूरस्थ शिक्षा कार्यक्रम से जुडकऱ अपनी पढ़ाई पूरी कर सकेगी। महिला कैदियों को शिक्षा से जोडऩे का यह कायक्रम जेल प्रशासन एवं जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय के संयुक्त प्रयास से संभव होगा। यह जानकारी जिला कारागृह में आयोजित एक कार्यक्रम में बुधवार को अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी शान्तिलाल शर्मा ने दी।
जिला कारागृह प्रभारी जेलर पारसमल जांगिड़ ने बताया कि जिला कारागृह में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में दस दिवसीय कार्ययोजना के सातवें दिवस जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पूर्णकालिक सचिव विक्रम सांखला के निर्देश पर बुधवार को महिला कैदियों को दूरस्थ शिक्षा के संबंध में जानकारी दी। अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी (माध्यमिक) शान्तिलाल शर्मा, सर्व शिक्षा अभियान के अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक दुर्गाशंकर सुथार, जिला साक्षरता अधिकारी महेशकुमार शर्मा, श्यामा डूंगरिया व्याख्याता एवं प्रभारी स्टेट ओपन स्कूल संस्थान प्रतापगढ़ उपस्थित हुए। कार्यक्रम में महिला कैदियों को दूरस्थ शिक्षा की सम्पूर्ण जानकारी दी गई। महिला बंदी दुर्गा, देवशाला तथा प्रेमलता ने आगामी सत्र में स्टेट ओपन स्कूल से दसवीं कक्षा में प्रवेश लेने के लिए अपना नामांकन करवाया। शेष अनपढ़ महिला कैदियों को साक्षर करने हेतु प्रेरक दीपा मीणा नियमित रूप से आखर ज्ञान कराएंगी। जिला साक्षरता विभाग की ओर से सभी असाक्षर कैदियों के लिए किताबें व अन्य स्टेशनरी उपलब्ध करवाई जाएंगी।
यहां पर्याप्त संसाधन मुहैया कराए जाए तो कैदियों को शिक्षा से जोड़ा जा सकता है। कारागृह में साक्षरता के लिए नियमित कक्षाएं चलाई जाती है। कार्यक्रम के दौरान मुख्य प्रहरी करणसिंह, आरएसी जाब्ता प्रभारी नारायणलाल, महिला प्रहरी विजूकुमारी तथा लिपिक रेखा उपस्थित रही।

बोर्ड परिणाम में प्रतापगढ़ को लगा झटका, आखिर कैसे और क्यों लगा देखे...

Rakesh Verma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned