शहर में एक साथ तीन स्थानों पर हुई कोरोना टीके की रिहर्सल, एक जने को टीका लगाने की प्रक्रिया में लगे 15 मिनट

विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिनिधि भी रहीं मौजूद

 

By: Rakesh Verma

Published: 09 Jan 2021, 01:34 PM IST

प्रतापगढ़. कोविडरोधी टीकाकरण की पूर्व तैयारियों को लेकर शुक्रवार को जिला प्रशासन ने शहर में एक साथ तीन स्थानों पर रिहर्सल किया गय। इसे ड्राई रन का नाम दिया गया। इसमें व्यक्ति को कोरेाना का टीका लगाने की पूरी प्रक्रिया का मॉक ड्रिल किया गया। इस दौरान सामने आया कि केन्द्र पर रजिस्टे्रशन के बाद व्यक्ति को टीका लगवाने की पूरी प्रक्रिया में 15 से 20 मिनट का समय लगा। जिला कलक्टर अनुपमा जोरवाल, जिला पुलिस अधीक्षक चूनाराम जाट और सीएमएचओ डॉ वीडी मीना ने विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रतिनिधि डॉ स्वाति मित्तल ने वैक्सीनेशन की प्रक्रिया की मॉक ड्रिल देखी। मॉक ड्रिल के दौरान कुल 74 जनों की डमी को टीके लगाए गए। सबसे पहले अर्बन मॉडल पीएचसी बगवास में सुबह 10 बजे वैक्सीनेशन को लेकर ड्राई रन हुआ। यहां कुल 25 जनों को वैक्सीनेशन के लाभार्थी के रूप में बुलाया गया था। कलक्टर ने पीएचसी पर वैक्सीनेशन को लेकर सोशल डिस्टेंसिंग, कोविन एप रजिस्ट्रेशन, वेटिंग एरिया, आब्र्जवेशन रूम, वैक्सीनेशन रूम, कोल्डचेन प्वाइंट, एएफआई मैनजमेंट, एंबुलेंस व्यवस्था आदि की जानकारी ली। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ वीडी मीना ने टीम के साथ व्यवस्थाओं के लिए आवश्यक दिशा निर्देश जारी किया। कलक्टर ने अंबामाता पीएचसी पर भी इसी प्रक्रिया का जायजा लिया। उन्होंने स्टाफ और एएफआई के साथ रजिस्ट्रेशन में लाभार्थियों की संख्या, कोविड एप एंट्री इत्यादि की जानकारी के साथ एक्जिट एरिया आदि के बारे में बारीकी से जानकारी ली। जिला पुलिस अधीक्षक ने ऑज्र्वेशन रूम में एंट्री प्वाइंट पर एक समय के लिए अलग से रजिस्टर संधारित करने का भी सुझाव दिया। सबसे अंतिम में प्रशासनिक और चिकित्सकीय टीम ने जिला चिकित्सालय में दौरा कर व्यवस्थाओं और वैक्सीनेशन की प्रक्रिया का जायजा लिया। जिला अस्पताल में हुए ड्राई रन में पीएमओ डॉ ओपीदायमा ने व्यवस्थाओं की रिहर्सल करवाई। ड्राई रन के दौरान पीएमओ डॉ ओपी दायमा, आरसीएचओ डॉ दीपक मीणा, डिप्टी सीएमएचओ डॉ धर्मेश आर्य, जिला चिकित्सालय डॉ धीरज सेन, डॉ पर्वत सिंह, बगवास पीएचसी प्रभारी डॉ सूजी सिंह, अंबामाता पीएचसी प्रभारी डॉ मुरारी बंसल, डीपीएम सदाकत अहमद, योगेश शर्मा सहित चिकित्सक और स्टाफ मौजूद थे।

एक्टिव रहेगी एईएफआई टीम
सीएमएचओ डॉ वीडी मीना ने बताया कि वैक्सीनेशन को पूरी तरह से सेफ बनाया गया है। फिर भी किसी भी प्रकार की वैक्सीनेशन के बाद एडवर्स एफेक्ट को मैनेज व रिपोर्ट करने के लिए विषेषज्ञों की टीम एईएफआई (एडवर्स इवेंट फॉलोइंग इम्यूनाइजेशन) गठित होगी।

इस तरह रहेगी टीकाकरण की व्यवस्था
वैक्सीन बूथ में तीन रूम होंगे। पहले में वेटिंग और रिकार्ड मैंटेन होगा। दूसरे में वैक्सीन लगाई जाएगी और तीसरे में वैक्सीन लगवाने वाले व्यक्ति को तीस मिनट तक के लिए डॉक्टरों की निगरानी में रखा जाएगा।
एक व्यक्ति को टीकाकरण केन्द्र में आने के बाद उसका ऑनलाइन रजिस्टे्रशन किया गया। इसके बाद उसकी काउसिंलग होगी, फिर टीका लगाया गया। इस सारी प्रक्रिया में 15 से 20 मिनट लगे। इसके बाद तीस मिनट उसे डॉक्टरों की निगरानी में रखा जाएगा, ताकि टीके का कोई साइड इफेक्ट हो तो उसे तुरंत इलाज दिया जा सके।
प्रवेश करने पर संबंधित व्यक्ति का आईडी चेक होगा। टीकाकरण के दौरान कोविड-19 के प्रोटोकोल का पालन किया जाएगा।

Rakesh Verma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned