ग्रामीणों के विरोध के बीच प्रशासन ने हटाया तलाई से अतिक्रमण

ग्रामीणों के विरोध के बीच प्रशासन ने हटाया तलाई से अतिक्रमण

Ram Sharma | Updated: 14 Jun 2019, 02:15:47 PM (IST) Pratapgarh, Pratapgarh, Rajasthan, India

ग्रामीणों ने पुलिस पर पत्थर फेंकने का किया प्रयास
पुलिस बल की मौजूदगी में प्रशासन ने की कार्रवाई



छोटीसादड़ी. क्षेत्र के नाराणी गांव में एक तलाई पर किए गए अतिक्रमण को प्रशासन ने गुरुवार को हटाया। यहां लोगों ने धर्मशाला बनाकर वहां मूर्तियां स्थापित कर ली थी। यह मामला उच्च न्यायालय पहुंचा, जहां से अतिक्रमण हटाने के आदेश हुआ था।
इस पर प्रशासन ने गुरुवार को यह कार्रवाई की। मौके पर स्थापित की गई प्रतिमाएं निकट के एक मंदिर में सुरक्षित रखवाई गई। इस दौरान ग्रामीणों ने विरोध भी किया। प्रशासनिक अमले पर पत्थर फेंकने के प्रयास किए गए।
प्रशासन ने बुधवार को अतिक्रमण हटाने क प्रयास किया था, लेकिन बुधवार को प्रशासन जेसीबी की व्यवस्था नहीं होने के चलते बैरंग लौटा था। इसके बाद गुरुवार को एडीएम गोपाल स्वर्णकार व एडीशनल एसपी संजय गुप्ता, पुलिस उपाधीक्षक विजयपाल सिंह संधू उपखण्ड अधिकारी बिंदुबाला राजावत तहसीलदार गणेशलाल पांचाल सहित अतिरिक्त पुलिस बल के जवान व महिला पुलिस दल सहित प्रशासन नाराणी गांव पहुंचा और अतिक्रमण हटाया।
प्रशासन के बुधवार को यहां पहुंचने पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के बारे में अवगत कराने के बाद रात्रि को अतिक्रमण के विरुद्ध कार्रवाई नही हो इसको लेकर कुछ युवाओं द्वारा आस्था का सहार लेते हुए तलाई की समतल भूमि पर रातों रात चबूतरे बनाकर देवरे बना दिए। महिलाओ ने सुबह से ही भजन कीर्तन आरम्भ कर दिए। प्रशासन अतिक्रमण हटाने पहुंचा तो महिलाओं ओर युवाओं ने विरोध भी किया। महिला पुलिस बल ने महिलाओं को परिसर से बाहर निकाला। एसडीएम व तहसीलदार ने युवाओं से स्थापित मूर्ति हटाने के लिए आग्रह किया लेकिन किसी ने भी उन्हें नहीं हटाया। इसके बाद प्रशासन की ओर से आसपास से छपरे हटाकर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई शुरू हुई। जेसीबी से खुदाई शुरू करवाई गई। युवाओं द्वारा स्थापित मूर्तियों को पूरी सावधानी रखते हुए वहां से हटाकर ट्रैक्टर की सहायता से मन्दिर पहुंचाया गया।

ये था मामला
नाराणी गांव में स्थित सार्वजनिक तलाई थी, जिसमें पहले पशु पानी पीते थे। लेकिन गांव के लोगों ने मिट्टी डाल कर उस पर एक समाज की धर्मशाला का निर्माण कर लिया था। उस पर चारों ओर पक्की दीवार बनाई गई। अन्य समाज की उपेक्षा किए जाने के चलते सार्वजनिक तलाई पर किए गए निर्माण का विरोध करते हुए। तात्कालीन उपखण्ड अधिकारी से अतिक्रमण हटाने की गुहार लगाई थी। इसके बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर न्यायालय की शरण ली। न्यायालय ने प्रशासन को तलाई की भूमि को अतिक्रमण मुक्त कर ओर खुदाई कर तलाई का रूप देने को कहा गया। उसके बाद बुधवार व गुरुवार को प्रशासन ने कार्रवाई की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned