मीनू के अनुसार नहीं मिल रहा बालिकाओं को भोजना

सेहत से खिलवाड़

By: Rakesh Verma

Published: 25 Apr 2018, 10:23 AM IST

पत्रिका एक्सक्लूसिव
प्रतापगढ़. जिला मुख्यालय स्थित जनजाति आवासीय बालिका खेल छात्रावास में काफी अव्यवस्थाएं सामने आ रही हैं।एक और जहां सरकार बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के राष्ट्रव्यापी अभियान एवं नारे के साथ आमजन को बेटियों को बचाने की प्रेरणा दी जा रही है। वही यहां बालिका खेल छात्रावास में बालिकाओं को मीनू के मुताबिक भोजन नहीं मिल रहा है। जिससे उनकी सेहत पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। दूसरी ओर रसोइये के अभाव में कई बार बालिकाओं को अपने हाथों से भी खाना बनाना पड़ता हंै। वही अधिकारियों से इस अनदेखी की शिकायत करने की बात पर बालिकाओं को रेस्टीकेट करने की बात कही जाती है। इसके चलते बालिकाएं सहम जाती हैं।
ये वही बालिकाएं है जिन्होंने यहां आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में कबड्डी, खो-खो, तीरदांजी आदि प्रमुख खेलों में श्रेष्ठ प्रदर्शन कर जिले का नाम रोशन किया था।

फ ल की जगह पेप्सी
मीनू के मुताबिक फ ल की जगह तर ककड़ी व पाईप पेप्सी परोसी जा रही है। रविवार को स्पेशल डाइट में पनीर की जगह बेसन गट्टे परोसे गए।
सेहत के साथ खिलवाड़
खेल छात्रावास में बालिकाओं को पढ़ाई के साथ अतिरिक्त पसीना बहाना पड़ता है। ऐसे में उनकी खुराक के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता है। लेकिन विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते यहां रहने वाली बालिकाओं की सेहत के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

मैंने 15 दिन पहले ही चार्ज लिया है...
ऐसी कोई बात नहीं है। खाना मीनू के मुताबिक दिया जा रहा है। हां ये सही है कि रसोइए को पूर्ण भुगतान नहीं मिलने से वो पूरा समय यहां नहीं दे पा रहा है। मुझे इस हॉस्टल का चार्ज लिए 15 दिन ही हुए हैं। वैसे सब कुछ ठीक चल रहा है।
रेखा रावत
अधीक्षक
जनजाति आवासीय खेल छात्रावास, प्रतापगढ़

ऐसी कोईबात नहीं
नहीं ऐसी कोई बात नहीं है। छात्रावास में सभी सुविधाएं हैं। खाना मीनू के मुताबिक दिया जा रहा है। मैंने दो दिन पहले ही छात्रावास का निरीक्षण किया था। और भी कोई कमी होगी तो पूरी की जाएगी।
भेरूलाल मीणा
उप जिला शिक्षा अधिकारी
जनजाति आवासीय बालिका खेल छात्रावास प्रतापगढ़

==============================================
गर्भवती होते ही बच्चे के पहले टीके तक सुधारो सेहत
जिले की गर्भवती व प्रसूताएं होने लगी लाभान्वित
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना
प्रतापगढ़. अब किसी महिला के गर्भवती होते ही उसका सेहत का पूरा ख्याल रखा जाने लगा है। इतना ही पहले बच्चे के पहले टीकाकरण तक सेहत सुधारने के लिए तीन चरणों में पांच हजार रुपए महिला को दिए जाने की प्रक्रिया तेज हो गईहै। यह हो रहा प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत। इस योजना में प्रतापगढ़ जिले की बात करें तो अब तक 685 महिलाओं को लाभान्वित किया जा चुका है।

यूं मिलती है योजना के तहत राशि
पहली किश्त-गर्भधारण के चार माह के भीतर। पंजीकरण करने पर। राशि: 1 हजार रुपए
दूसरी किश्त-प्रसव से पूर्व एक एएनसी जांच कराने पर-राशि: 2 हजार रुपए
तीसरी किश्त-प्रसव के बाद बच्चे का पंजीकरण व प्रथम चरण का टीकाकरण होने पर: 2 हजार रुपए

यह है प्रतापगढ़ जिले की स्थिति
685 महिलाएं अब तक लाभान्वित
1256 महिलाओं को भुगतान करना बाकी, प्रक्रिया पूरी
3000 महिलाओं ने अब तक कराया पंजीकरण
10 लाख 5 हजार की राशि अब तक आवंटित


धीमी गति से चल रहा है काम
प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत प्रतापगढ़ में काम बहुत ही धीमी गति से चल रहा है। जिले की छहों परियोजनों में सैकड़ों की संख्या में आवेदनों की पंजीकरण व निरीक्षण का काम जारी है। राज्य में प्रतापगढ़ की रैकिंग 26 वें स्थान पर है।

इसलिए दे रहे राशि
गर्भवती महिला गर्भ धारण के बाद पहले बच्चे के टीकाकरण तक सम्पूर्णपौष्टिक आहार ले सके।इसलिए यह तीन किश्तों में पांच हजार रुपए की राशि दी जा रही है।

इन्हें मिलेगा लाभ
यह योजना 1 जनवरी 2017 से प्रभावी मानी गईहै। यानी 1 जनवरी 2017 के बाद जो भी महिला गर्भवती हुई है और उसे इस योजना का लाभ मिलेगा।इसमें सरकारी महिला कर्मचारी को इस योजना में लाभ नहीं दिया जाएगा।

अधिक से अधिक को करेंगे लाभान्वित
-3000 महिलाओं के आवेदन फार्म भर चुके है।और भी प्रयास कर रहे हैं।अधिक से अधिक से महिलाओं को लाभान्वित किया जाए, यह हमारा लक्ष्य है।
मंजू परमार, उप निदेशक, महिला एवं बाल विकास, प्रतापगढ़
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

Rakesh Verma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned