किसानों ने समस्याओं को लेकर किए प्रदर्शन, सौंपे ज्ञापन

प्रतापगढ़. अरनोद.
एक तरफ तो किसान वर्षा के अभाव से जूझ रहा है, तो दूसरी तरफ कोरोना महामारी में विद्युत विद्युत निगम द्वारा गुणवत्तापूर्ण विद्युत आपूर्ति एवं उपभोक्ता सेवाएं सुचारू नहीं की जा रही है। साथ ही पटवारियों की हड़ताल से गिरदावरी, नकल राजस्व के संबंधित कार्यों के लिए किसान परेशान और मजबूर हैं। इन मांगों को लेकर भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में शुक्रवार को किसान तहसील स्तर पर सांकेतिक धरना देकर ज्ञापन दिए गए।

By: Devishankar Suthar

Published: 03 Jul 2021, 08:17 AM IST


-उपखण्ड अधिकारी व तहसीलदार को दिया ज्ञापन
प्रतापगढ़. अरनोद.
एक तरफ तो किसान वर्षा के अभाव से जूझ रहा है, तो दूसरी तरफ कोरोना महामारी में विद्युत विद्युत निगम द्वारा गुणवत्तापूर्ण विद्युत आपूर्ति एवं उपभोक्ता सेवाएं सुचारू नहीं की जा रही है।
इससे किसानों की कमर टूटी हुई है। साथ ही पटवारियों की हड़ताल से गिरदावरी, नकल राजस्व के संबंधित कार्यों के लिए किसान परेशान और मजबूर हैं। इन मांगों को लेकर भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में शुक्रवार को किसान तहसील स्तर पर सांकेतिक धरना देकर ज्ञापन दिए गए। वैकल्पिक व्यवस्था लचर होने से किसान गिरदावरी व अन्य राजस्व संबंधित नकल, दस्तावेज के लिए भटक रहे है। इस कारण किसान सरकारी योजनाओं व ऋण, अनुदान के लाभ से वंचित हो रहे हैं। सरकार किसानों को इस समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए स्थायी समाधान निकाले।
विद्युत मीटर गुणवत्ताहीन होने के कारण जल जाने का जिम्मा विद्युत निगम का ही होना चाहिए, लेकिन विद्युत विभाग द्वारा मीटर शुल्क 600 रुपए से बढ़ाकर ढाई हजार रुपए कर दिए है। जो किसानों पर कोरोना काल की आर्थिक मंदी में असहाय आर्थिक पीड़ा है इसलिए सरकार मीटर का शुल्क समाप्त करें।
मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के अंर्तगत फ्लैट रेट कृषि कनेक्शन वाले को अनुदान से वंचित रखा गया है। फ्लेट रेट कृषि कनेक्शन वाले किसानों को भी 12 हजार रुपए प्रतिवर्ष अनुदान दिया जाए। ट्रांसफॉर्मर समय पर नहीं बदलना की समस्या यथावत है। किसानों के खराब ट्रांसफॉर्मर बदलने के लिए एक लिफ्टर वाहन उपलब्ध करवाया जाए। जिससे किसानों को नि:शुल्क एवं शीघ्र ट्रांसफार्मर बदलाने की सुविधा मिल सके। समर्थन मूल्य पर खरीद में अधिकारियों और व्यापारियों की सांठगांठ से किसानों को नुकसान हो रहा है। व्यापारी किसानों के नाम से समर्थन मूल्य पर माल तुला रहे हैं, सरकार इसे रोकने के लिए सख्त कदम उठाए।
अरनोद में संरक्षक कर्नल जयराज सिंह, जिला अध्यक्ष पन्नालाल के नेतृत्व में ज्ञापन दिया गया। अरनोद तहसील में वर्ष 2019.20 का खरीफ फसल अतिवृष्टि से खराब हुई थी। उसमें आज तक कई किसान मुआवजे से वंचित रहे हैं। उनको मुआवजा दिलाया जाए। वर्ष 2020.2021 में खरीफ रबी फसल में नुकसान हुआ था। लिंक पर बीमा कंपनी को क्लेम किया था, जिसमें बीमा कम्पनी वाले ने आकर सर्वे भी किया था, उनका भी किसानों के बीमा क्लेम नहीं मिला। इसे अति शीघ्र बीमा दिलाया जाए। इस अवसर पर तहसील के किसान मौजूद थे।
=--=
.....
दिव्यांग शिविर में 73 प्रमाण पत्र हुए जारी
अरनोद. यहां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर नेशनल डॉक्टर्स डे तथा जिला कलेक्टर रेणु जयपाल के आदेश व सीएमएचओ के निर्देशन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अरनोद में एक दिवसीय दिव्यांग कैंप का आयोजन किया गया। अरनोद ब्लॉक सीएमएचओ चंद्रशेखर वर्मा ने बताया कि इस कैंप में दिव्यांग जो व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से ग्रसित होने के कारण सामान्य जीवन यापन करने में सक्षम नहीं है, ऐसे दिव्यांगों का चयन किया गया। शिविर के दौरान 73 प्रमाण पत्र जारी किए गए। विकलांगता के प्रतिशत के आधार पर उनको लाभ आवंटित किया गया। लेब टेक्नीशियन परमेश्वरसिंह ने बताया कि इस अवसर पर जिला चिकित्सालय से नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर राधेश्याम कच्छावा, नाक कान गला रोग विशेषज्ञ नरेश कुमावत, मनोरोग विशेषज्ञ डॉक्टर विमल मीणा, डॉक्टर मुकेश डिंडोर उपस्थित रहे। साथ ही इस शिविर में नर्सिंग कर्मियों ने अपनी सेवाएं दी।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned