गली-सडक़ों पर चल रही अस्थाई सब्जी मंडियां

गली-सडक़ों पर चल रही अस्थाई सब्जी मंडियां

Rakesh kumar Verma | Publish: May, 18 2018 10:06:48 AM (IST) Pratapgarh, Rajasthan, India

-यातायात हो रहा है प्रभावित

-अभी इन स्थानों पर लग रही सब्जी मंडी
-सदर बाजार
-आजाद चौक
-बस स्टैंड के पीछे सब्जी मंडी
-गांधी चौराहा
-सूरजपोल दरवाजे के अन्दर

प्रतापगढ़. शहर में व्यवस्थित तरीके से सब्जी मंंडी की दरकार लम्बे समय से है। क्योकि शहर में जगह-जगह सडक़ों पर अस्थाई अतिक्रमण के रूप में चलाई जा रही सब्जी मंंडी न केवल आमजन के लिए परेशानी बन रही है। बल्कि यातायात में भी बड़ी बाधा बनी हुई है। इस मामले को लेकर कई बार आवाज उठाई गई है। सब्जी मंडी को नगर परिषद की सरकारी जमीन पर स्थानांतरित किया जाना चाहिए। सुनियोजित तरीके से सब्जी मंडी विकसित करनी चाहिए, ताकि इससे न केवल सब्जी-फल विक्रेताओं के लिए रोजगार बढ़ेगा, बल्कि जनता को भी राहत मिलेगी।

सडक़ों पर दौड़ते ठेला गाडी वाले
सब्जी बेचने के लिए शहर में ठेला गाडियों वालों ने जगह-जगह अपना स्थान बना रखा है। वहीं बाजारों में सब्जी बेचने के लिए इधर से उधर दौड़ लगाते रहते है। जिस कारण शहर में यातायात व्यवस्था भी बिगड़ी हुई है।
सब्जी मंडी बने तो यह हो फायदा
शहर में अगर सब्जी मंडी अन्यत्र जगह स्थापित होती है तो नए रोजगार के अवसर पैदा होंगे। वर्तमान में जहां-जहां मंडियां चल रही है।वहां ठेलों की संख्या भी 40 से 50 ही है। ऐसे में नई जगह मंडी लगने से ज्यादा ठेले खड़े रह सकेंगे। जिनमें सब्जी बेचने वालों के अलावा फल, खान-पान का विक्रय करने वाले भी पंजीकरण में अपनी हिस्सेदारी निभाएंगे। ठेलों के खड़े रहने से परिषद को आय होगी।
यातायात व्यवस्था सुधरेगी
अगर सब्जी मंडी की बनती है तो सबसे ज्यादा फायदा इन मंडियों में से गुजरने वाले वाहन चालकों को होगा। वर्तमान में जहां अव्यवस्थित ठेलों व अतिक्रमण से सडक़ संकरी हो रही है, वहीं मंडी के नई जगह स्थापित होने पर अतिक्रमण की समस्याओं की मुक्ति मिलेगी। वहीं आवागमन की राह भी सुगम होगी।
..............................................
शहर में होनी चाहिए सब्जी मंडी
प्रतापगढ़ शहर जिला मुख्यालय होने के कारण यहां पर लोगों की भीड़ रहती है। जिला मुख्यालय पर एक सुजियोजित तरीके से एक सब्जी मंडी बननी चाहिए।
विनोद ग्वाला, सब्जी विक्रेता
आती है परेशानी
शहर में सब्जी मंडी नहीं होने के कारण कई बार परेशानी का सामना करना पड़ता है। सडक़ों पर हमें दुकान लगानी पड़ती है अगर सब्जी मंडी होतो हमें सडक़ों पर दुकान नहीं लगानी पड़ेगी।
अनिल, सब्जी विक्रेता

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned