हमेरा बांध डूब क्षेत्र का मुआवजा बढ़ाकर साढे चार करोड़ किया

-पीथलवड़ी कलां में देर तक चली जिला स्तरीय रात्रि चौपाल

By: Rakesh Verma

Published: 29 Mar 2018, 06:42 PM IST

प्रतापगढ़. जिले की छोटीसादड़ी की पीथलवड़ी कलां ग्राम पंचायत में आयोजित जिला स्तरीय रात्रि चौपाल में अतिरिक्त जिला कलक्टर ने ग्रामीणो से सीधा संवाद कर गांव के सर्वांगीण विकास पर विस्तार से चर्चा की और विभिन्न योजनाओं में लाभ लेने का आह्वान किया। कार्यवाहक जिला कलक्टर हेमेन्द्र नागर ने ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों से कहा कि वे विभिन्न योजनाओं एवं कार्यक्रमों की विस्तृत जानकारी रखें एवं उनका लाभ क्षेत्र के जरूरतमंदो एवं पात्र परिवारों तक पहुंचाएं। उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत अधूरे रहे शौचालय पर कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकार की इस महत्वपूर्ण योजना को बहु-बेटियो की इज्जत से जोडकऱ देखे और घर-घर शौचालय निर्माण कर उसका नियमित उपयोग करें। उन्होंने गत तीन वर्षो में स्वीकृत आवासों एवं अधूरे रहे आवासों को पूर्ण करवाने पर जोर दिया और कहा कि अधूरे आवासों को 15 दिन में आवश्यक रूप से पूर्ण करें ताकि प्रतीक्षारत अन्य लोगो को आवास बनाने की सूची में नाम आ सके। हमेरा बांध के डूब क्षेत्र में आने वाले लोगों को मुआवजा दिलाने के प्रार्थना पत्र पर कार्यवाहक जिला कलक्टर ने बताया कि सरकार ने इस क्षेत्र के लोगों को 1.50 करोड़ रुपए निर्धारित किया गया था लेकिन इसमे डीएलसी दर बढाकर मुआवजा राशि साढे चार करोड़ कर दी गई है। उन्होंने उपस्थित उपखण्ड अधिकारी को बढ़ी दर से मुआवजा वितरित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सालेड़ा कलां गांव में उपस्वास्थ्य केन्द्र खोलने के प्रार्थना पत्र पर कहा कि इसके लिये प्रस्ताव तैयार किए जाएंगे। मवेशियो के लिये सार्वजनिक प्याउ के एक प्रार्थना पत्र पर उन्होंने ग्राम पंचायत से कार्य करवाने के निर्देश सचिव को दिए। इसके अलावा कृषि कनेक्शन, खाद्य सुरक्षा सूची में नाम सम्मिलित करने आदि प्रार्थना पत्रों पर उपस्थित अधिकारियो को कार्यवाही करने के निर्देश दिए ।
श्रमिक कार्ड का मिला लाभ
प्रतापगढ़ की भौगोलिक स्थिति एवं जनजाति बाहुल्य क्षेत्र में कृषि पर जीवन यापन करने वाले परिवारों के लिये राज्य सरकार के श्रम विभाग की ओर से जारी श्रमिक कार्ड का अच्छा फायदा मिल रहा है। रात्रि चौपाल में इस योजना में छात्रवृति का स्वीकृति पत्रा प्राप्त किया तो सातवीं कक्षा में अध्ययनरत भारती का खुशी का ठिकाना नहीं रहा। कलक्टर एवं प्रधान महावीरसिंह कृृष्णावत ने छात्रा से उच्च अध्ययन के बारे में पूछा तो उसने उत्साह से बताया कि वह बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है। इस पर उपस्थित अतिथियो ने ताली बजा कर भारती का उत्साह बढ़ाया। उल्लेखनीय है कि श्रम विभाग की इस योजना में निर्माण श्रमिकों एवं उनके परिवार के सदस्य को आर्थिक सम्बल प्रदान करने के लिये श्रमिक कार्ड जारी किया जाता है। कार्डधारी व्यक्ति की मेधावी भारती को योजना के तहत नियमित अध्ययन पर 7 हजार की छात्रावृत्ति का स्वीकृति पत्र कलक्टर एवं प्रधान ने सौंपे। चौपाल में अतिथियों ने इसके अलावा चार अन्य छात्र-छात्राओं को भी छात्रावृत्ति के स्वीकृति पत्र सौंपे। राशि लाभार्थियो के खातों में स्थानान्तरित की गई है। श्रम कल्याण अधिकारी विपिन चौधरी ने चौपाल में बताया कि निर्माण श्रमिको के लिये श्रमिक कार्ड जारी किया जाता है जो सम्बंधित ग्राम पंचायत के ई मित्र पर निर्धारित शुल्क एवं आधार व भामाशाह कार्ड आदि देकर श्रमिक कार्ड बनवाया जा सकता है। कार्ड के विभिन्न फायदे बताते हुए उन्होंने बताया कि कार्डधारी व्यक्ति को लडक़े एवं लडक़ी के जन्म पर, शिक्षा के लिये छात्रवृृत्ति एवं उनकी शादी तक के लिये अलग-अलग राशि दी जाती है। कार्डधारी एवं परिवार के अन्य सदस्यों को भी दुर्घटना में मृत्यु अंग-भंग होने आदि में भी आर्थिक सम्बल प्रदान करता है ।
किश्त लेकर आवास नहीं बनाने वालो के खिलाफ होगी कार्यवाही
प्रधानमंत्री आवास योजना एवं इंदिरा आवास योजना में किश्त ले लेने के बाद भी आवास निर्माण पूरा नहीं करने वालो के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। रात्रि चौपाल में जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी जगदीशचन्द्र हेड़ा ने कहा कि अधूरे एवं बकाया आवास 15 दिन की अवधि में आवश्यक रूप से पूर्ण करें, ऐसा नहीं करने वालो की जमीन कुर्क की जा सकती है। उन्होंने स्वीकृत अधूरे शौचालय निर्माण भी शीघ्र पूर्ण करने का आह्वान जनप्रतिनिधियो एवं सम्बंधित परिवारो से किया। रात्रि चौपाल में उपखण्ड अधिकारी दिनेश कुमार मण्डोवरा, विकास अधिकारी राजेन्द्र गुप्ता, सरपंच, जनप्रतिनिधि सहित जिला एवं ब्लाक स्तरीय अधिकारी व ग्रामीणजन मौजूद रहे ।

Rakesh Verma Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned