प्रवेश द्वारा पर गड्ढे को सही करने, एंबुलेंस को सुचारू करने के निर्देश


राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण और उच्च न्यायालय की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की पालना में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश लक्ष्मीकांत वैष्णव ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मूंगाना का औचक निरीक्षण किया।

By: Devishankar Suthar

Published: 01 Mar 2020, 07:49 PM IST


न्यायाधीश ने सीएचसी मूंगाणा का किया औचक निरीक्षण
प्रतापगढ़
राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण और उच्च न्यायालय की ओर से जारी दिशा-निर्देशों की पालना में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश लक्ष्मीकांत वैष्णव ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मूंगाना का औचक निरीक्षण किया। सचिव वैष्णव ने चिकित्सालय के प्रसूति वार्ड, लेबर रूम तथा दवा वितरण केंद्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय पैनल लॉयर अजीत कुमार मोदी भी उपस्थित रहे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. जीवराज मीणा केंद्र पर मिले। उपस्थिति पंजिका के मुताबिक एक स्टाफ नर्स द्वितीय के कॉलम खाली थे। जिस के संबंध में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी के द्वारा यह बताया गया कि उक्त स्टाफ मेडिकल अवकाश पर है। लेबर रूम में रेडिएंट वार्मर एसक्शन मशीन तथा ऑक्सीजन सिलेंडर के सुचारू काम करने की व्यवस्थाओं को देखा। निरीक्षण के समय प्रसूति वार्ड में चार प्रसूति महिलाएं भर्ती पाई गई। चिकित्सालय में प्रवेश द्वार की स्थिति संतोषजनक नहीं पाई गई। एंबुलेंस अथवा वाहन के प्रवेश के लिए उसे उचित नहीं पाया गया। प्रवेश द्वार में जो नाली और गड्डा पाया गया। वह प्रसूति के लिए आने वाले वाहन और एंबुलेंस के लिए नुकसानदायक होना बताया गया। इस संबंध में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी को निर्देश दिए गए कि वे संबंधित ठेकेदार से संपर्क कर इसे तुरंत दुरस्त कराए। ताकि प्रसूति के लिए आने वाली महिलाओं को असुविधा व नुकसान नहीं हो। यहां 280 मरीजों की प्रतिदिन की ओपीडी है, जबकि पूरा अस्पताल केवल मात्र एक चिकित्सक के भरोसे चल रहा है। ऐसे में मुंगाना जैसे बड़े गांव को अत्यंत परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस सीएचसी पर 8 चिकित्सकों के पद स्वीकृत हैं। लेकिन 24 घंटे केवल मात्र एक ही चिकित्सक को सारा कार्य भार संभालना पड़ता है। ग्रामीणों के द्वारा 108 एंबुलेंस नहीं होने व 104 एंबुलेंस खराब होने व स्थिति संतोषजनक नहीं बताई गई। प्रवेश द्वार के सुधार, एंबुलेंस की व्यवस्था को सुचारू बनाने के लिए, डॉक्टर व स्टाफ की समुचित व्यवस्था के लिए प्राधिकरण के अलीमुद्दीन कुरैशी को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को सूचित किए जाने के संबंध में निर्देश दिए गए। इस पत्र की प्रति उच्चाधिकारियों तथा जिला कलक्टर को भी प्रेषित किए जाने के निर्देश दिए गए।

Devishankar Suthar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned