scriptKanthal drenched by the rain of Mawth | मावठ की बारिश से भीगा कांठल | Patrika News

मावठ की बारिश से भीगा कांठल

प्रतापगढ़.
कांठल में गुरुवार को मौसम पलट गया। सुबह से ही बर्फीली हवाओं के कारण ठिठुरन बढ़ गई। इसके साथ ही दिनभर रुक-रुककर मावठ की बारिश शुरू हो गई। जो शाम तक चली। दिनभर आसमान में बादलों का डेरा रहा। इससे सूरज के दर्शन नहीं हुए। जिले में कई इलाकों में अच्छी बारिश से रबी की फसलों में अमृत समान मानी गई है।

प्रतापगढ़

Updated: November 19, 2021 08:51:02 am


-जिलेभर में पलटा मौसम, दिनभर हुई रुकरुकर बारिश
--बर्फीली हवा से बढ़ी ठिठुरन
प्रतापगढ़.
कांठल में गुरुवार को मौसम पलट गया। सुबह से ही बर्फीली हवाओं के कारण ठिठुरन बढ़ गई। इसके साथ ही दिनभर रुक-रुककर मावठ की बारिश शुरू हो गई। जो शाम तक चली। दिनभर आसमान में बादलों का डेरा रहा। इससे सूरज के दर्शन नहीं हुए। जिले में कई इलाकों में अच्छी बारिश से रबी की फसलों में अमृत समान मानी गई है। वहीं दूसरी ओर इस सीजन की पहली मावठ से सर्दी का असर बढ़ गया। लोगों को दिनभर गर्म और ऊनी वस्त्रों से लदे रहना पड़ा।
कांठल में बेमौसम की बारिश ने लोगों की चिंता बढ़ गई है। बारिश से लोगों का स्वास्थ्य बिगडऩे की चिंता है। वहीं दूसरी ओर बरसात से आने वाली रबी की फसलों में गेहूं, चना, अजवाइन, मसूर, मैथी, सरसों आदि में फायदा मिलेगा।
बंबोरी. क्षेत्र में सुबह से ही मौसम का मिजाज बदल गया। आसमना में बादल छा गए। इसके साथ ही बारिश का दौर शुरू हो गया। दिनभर बारिश का दौर चलता रहा। ऐसे में अफीम किसानों की चिंता बढ़ गई है।
बारावरदा. क्षेत्र में तेज बारिश का दौर सुबह से ही दिन भर चला। झमाझम बारिश का दौर तो कभी रिमझिम का दौर चलता रहा। वहीं ग्रामीण अपने घरों से बाहर कृषि कार्य के लिए नहीं जा पाए। वहीं खेतों में पानी भरने से किसानों की चिंता बढ़ी।
=--==-=
मोखमपुरा. क्षेत्र में गुरुवार को मावठ की बारिश होने से सर्दी बढ़ गई। जिससे लोगों को अलाव का सहारा लेना पड़ा। मचलाना गांव के बस स्टैंड पर दिन में अलाव का सहारा लेना पड़ा।
अरनोद. क्षेत्र में मावठ की बारिश से सदीर्र बढ़़ गई। कहीं रिमझिम तो कहीं फुहारों का दौर चलता रहा।
मेरियाखेड़ी. क्षंत्र में गुरूवार को सुबह से आसमान में बादल छाने लगे। सुबह दस बजे से बारिश का दौर शुरू हुआ। जो दिनभर कभी तेज तो कभी मध्यम बारिश होती रही। दिनभर बारिश व सर्दी होने से लोग गर्म कपड़ों को पहन व घरों में अलाव जलाकर तापते रहे। बारिश से कही नुकसान तो कहीं फायदा हुआ है। पहले बोई गई फसलों को फायदा हुआ है। कुछ किसानों पिछले दिनों हुई बारिश से खेतों मे नमी अधिक होने से हंकाई जुताई भी नहीं कर पाए। इस बारिश से एक पखवाड़े तक देरी से हंकाई-जुताई होगी। खेत खलियानों में पड़ा सूखला व कड़ब इस बारिश से खराब होने की सम्भावना है।
मावठ की बारिश से भीगा कांठल
मावठ की बारिश से भीगा कांठल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.