लैब है लेकिन नहीं होती जांच, भटकते रहते है परिजन

लैब है लेकिन नहीं होती जांच, भटकते रहते है परिजन

Rakesh kumar Verma | Publish: Sep, 09 2018 11:16:28 AM (IST) Pratapgarh, Rajasthan, India

जांच के अभाव में नहीं मिल पाता पर्याप्त उपचार

प्रतापगढ़ मातृ एवं शिशु चिकित्सा इकाई में लैब और अन्य संसाधन भी पर्याप्त है। लेकिन यहां जांच सुविधा नहीं है। हालात यह है कि कई बार चिकित्सक द्वारा जांच लिखने के बाद मरीज को मुख्य चिकित्सालय के लैब में ले जाना पड़ता है। ऐसे में कई जांचें तो हो ही नहीं पाती है। कईबार तो जांचों की रिपोर्ट के अभाव में चिकित्सक द्वारा उपचार भी नहीं हो पाता है।
जिला चिकित्सालय के मातृ एवं शिशु चिकित्सा इकाई में सभी कक्ष तो बने हुए है।लेकिन ये चालू नहीं है। यहां जिला चिकित्सालय परिसर में 16 करोड़ रूपए की लागत से मातृ शिशु कल्याण केंद्र (एमसीएच यूनिट) का निर्माण किया गया। इस यूनिट में आधुनिक मॉड्यूलर वार्ड, ऑपरेशन थियेटर, वेटिंग रूम एवं सेंट्रालाइज कुलिंग सिस्टम की सुविधा है। इसका उद्घाटन दिसम्बर में किया गया था।
यह है स्थिति
यहां ऑपरेशन थियेटर, कॉटेज वार्ड, आईसीयू, पोस्ट ऑपरेटिंग वार्ड, ओटी एनेस्थिया, आदि के लिए वातानुकूलित कक्ष बने हुए है। लेकिन स्टाफ के अभाव में ये बंद है।इनका कोई उपयोग तक नहीं हो पा रहा है।
जांचों के लिए भटकते परिजन
मातृ एवं शिशु चिकित्सा इकाई में भर्ती प्रसूता और गर्भवती महिलाओं के साथ नवजात और शिशुओं की जांच के लिए परिजन यहां से वहां भटते दिखाई देते है।ऐसा भी नहीं है कि यहां जांच के लिए लैब नहीं है। लैब और अन्य संसाधन भी है।लेकिन ये चालू नहीं की गई है। इससे जांचों के लिए मुख्य चिकित्सालय स्थित लैब में ही जाना पड़ता है।ऐसे में कई बार तो जांचों की रिपोर्ट भी नहीं पाती है।
यह हो सकती है व्यवस्था
मातृ एवं शिशु चिकित्सा इकाई में बैड पर ही जांच के लिए सेम्पल लिए जा सकते है। ऐसे में महिला और बच्चों को समुचित उपचार मिल सकता है। जिला चिकित्सालय प्रशासन चाहे तो यहां बैड पर ही जांचों के सेम्पल लेने और रिपोर्ट देने की सुविधा शुरू कर सकता है।

कराएंगे सुविधा
जांचों के लिए हमारे पास स्टाफ भी कम है। ऐसे में मातृ एवं शिशु चिकित्सा इकाई में लैब शुरू करना परेशानी होगी। जांच के लिए हम बैड पर ही सैम्पल लेने की व्यवस्था के बारे में बैठक में प्रस्ताव लेकर शुरू करवा सकते है।

डॉ. ओपी दायमा
उप नियंत्रक, जिला चिकित्सालय प्रतापगढ़

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned